बादलों के पक्ष में काम कर रही SGPC… अकाल तख्त की चेतावनी पर पंजाब के सीएम का डायरेक्ट अटैक

चंडीगढ़: श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी (SGPC) की ओर से ऑपरेशन अमृतपाल में पकड़े गए युवाओं की रिहाई के लिए मिले अल्टिमेटम पर मुख्यमंत्री भगवंत मान ने पलटवार किया है। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने ट्वीट करके जत्थेदार और SGPC की कार्यशैली को कटघरे में खड़ा किया है। पंजाब सीएम मान ने लिखा, ‘सभी को पता है कि जत्थेदार और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी अक्सर बादलों का पक्ष लेती रही है। इतिहास देखो कई जत्थेदारों का बादलों ने अपने स्वार्थों के लिए इस्तेमाल किया है। बेहतर होता अगर आप अल्टिमेटम बेअदबी केसों और गुरु ग्रंथ साहिब के गायब स्वरूपों के बारे में देते, न के हंसते-बसते लोगों को भड़काने के लिए देते। उधर, पंजाब के सीएम के डायरेक्ट अटैक पर जत्थेदार ने भी रिप्लाई किया है। इस बीच मुख्यमंत्री कार्यालय ने साफ किया कि पंजाब पुलिस नियमानुसार कार्रवाई कर रही है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर बेकसूर नौजवानों को लगातार जांच के बाद छोड़ा जा रहा है। इसके अलावा पंजाब सरकार ने मंगलवार को हाईकोर्ट में भी कहा है क‍ि उन्होंने पुलिस महानिदेशक से उन लोगों को हिरासत से रिहा करने के लिए कहा है, जो देश विरोधी किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं पाए गए हैं। मान ने हालांकि यह भी कहा है कि राज्य में शांति भंग करने की कोशिश करने वाले व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।अकाल तख्त की चेतावनी, पकड़े गए युवकों को 24 घंटे में रिहा करेंदरअसल श्री अकाल तख्त साहिब की ओर से पंजाब सरकार को अल्टिमेटम दिया गया है कि ऑपरेशन अमृतपाल के दौरान 10 दिनों में पकड़े गए युवकों को 24 घंटों में रिहा किया जाए। नहीं तो बड़ा ऐक्शन होगा और समूचे पंजाब की पंचायतों में बैठकें कर सिखों पर हो रहे ‘अत्याचार’ के बारे में बताया जाएगा। जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह की तरफ से पंजाब के हालात पर बुलाई गई बैठक में सोमवार को यह फैसला हुआ था। इस बैठक में सिखों के 72 संगठन पहुंचे। SGPC ने किया था ये ऐलान संगठनों का प्रतिनिधित्व करते हुए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी (SGPC) ने ऐलान किया था कि हमारे वकील पकड़े गए नौजवानों के केस लड़ेंगे। जिन नौजवानों के परिजन वकील कर चुके हैं, उन्हें वित्तीय मदद दी जाएगी। जिन पर NSA लग चुका है, उनका मुद्दा हाई कोर्ट में उठाया जाएगा। श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने अपने संदेश में कहा कि पूरे घटनाक्रम के दौरान सिखों का चरित्र हनन किया गया है। जिस लहजे में सवाल उठे हैं, उसी लहजे में जवाब देना जरूरी है।