अडानी मुद्दे पर संसद में विरोध प्रदर्शन, सोनिया गांधी, खड़गे समेत कांग्रेस के सभी बड़े नेता शामिल- JPC जांच की मांग

अडानी मुद्दे को लेकर केंद्र की मोदी सरकार खामोश है। वहीं विपक्ष इस मुद्दे को लेकर लगातार हमलावर है। राहुल गांधी ने संसद में अडानी को लेकर पीएम मोदी से कई सावल किए थे। राहुल पीएम मोदी से उन सावलों के जवाब की उम्मीद कर रहे थे। हालांकि ऐसा हुआ नहीं। इस मुद्दे को लेकर संसद से सड़क तक विपक्षी दलों का विरोध प्रदर्शन जारी है। शुक्रवार को भी विपक्षी सांसदों ने संसद परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में कांग्रेस अध्यक्ष और राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी हिस्सा लिया। सभी नेताओं ने जेपीसी की मांग को लेकर नारेबाजी की। नेताओं ने ‘अडानी को बचाना बंद करो’ के नारे भी लगाए। कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार हमारी आवाज दबा नहीं पाएगी, अडानी मामले पर पीएम मोदी को जवाब देना ही होगा।सदन में विपक्षी दल लगातार अडानी ग्रुप का मुद्दा उठा रहे। साथ ही संसदीय समिति का गठन कर मामले में जांच की मांग करते हुए मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी और हंगामा कर रहे हैं। इसको देखते हुए 20 मार्च (सोमवार) तक के लिए राज्यसभा और लोकसभा को स्थगित कर दिया गया।इसके बाद विपक्षी दलों के सांसद, संसद परिसर में स्थित गांधी प्रतिमा के पास पहुंचे और केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस प्रदर्शन और नारेबाजी के दौरान विपक्षी दल के सांसदों के हाथ में कार्ड भी थे, जिस पर अडानी और मोदी सरकार के खिलाफ नारे लिखे हुए थे।बुधवार को 17 विपक्षी दलों ने संयुक्त तौर पर संसद भवन से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दफ्तर तक मार्च निकल कर ज्ञापन देने की रणनीति बनाई थी लेकिन दिल्ली पुलिस ने उनको विजय चौक पर ही रोक दिया था। भारी सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए सांसद वापस लौट आए। अब उन्होंने संसद परिसर में ही प्रदर्शन शुरू कर दिया है।गौरतलब है कि अडानी मुद्दे को लेकर कांग्रेस मोदी सरकार पर हमलावर है। पार्टी हर दिन सरकार से सवाल पूछ रही है। संसद सांसद में तो कार्यकर्ता सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। राहुल गांधी ने गुरुवार एक बार फिर से पीएम मोदी पर हमला बोला था। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अडानी पर उठाए गए मेरे सवालों से पीएम मोदी और सरकार डरी हुई है, इसीलिए मुद्दे से भटकाने के लिए ये सारा तमाशा हो रहा है। पीएम, मंत्री और बीजेपी के नेता सभी मुद्दे को भटकाने में लगे हैं। वो नहीं चाहते की असली मुद्दों पर बात हो। कांग्रेस नेता ने कहा कि मैंने संसद मे कोई भी गलत बात नहीं कही है। कुछ दिन पहले जो मैंने सदन में नरेंद्र मोदी और अडानी जी के रिश्ते पर जो भाषण दिया उसे सदन की कार्रवाई से हटा दिया गया। उस भाषण में ऐसी कोई चीज नहीं थी जो सार्वजनिक रिकॉर्ड में ना हो। अडानी और मोदी के रिश्ते को लेकर मैंने जो सवाल उठाए हैं उसकी वजह से यह सारा तमाशा हो रहा है। उन्होंने कहा कि खुद प्रधानमंत्री, सरकार के मंत्री, बीजेपी के नेता सभी मुद्दे को भटकाने में लगे हैं। वो नहीं चाहते की असली मुद्दों पर बात हो।