प्रफेसर ने मुसलमानों के लिए मांगा अलग देश, विवाद हुआ तो इस्तीफा देकर बोला- मेरी आजादी है

सिवान : बिहार में एक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने मुस्लिमों के लिए अलग देश मांग को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखा, जिसे लेकर काफी बवाल मचा। इस पोस्ट को लेकर प्रोफेसर को शो-कॉज नोटिस भी दिया गया। हालांकि, प्रोफेसर खुर्शीद आलम ने इसे अभिव्यक्ति की आजादी करार दिया। उन्होंने ये भी कहा कि मैंने कुछ गलत नहीं कहा। दूसरी ओर, इस मामले पर हंगामा थमा नहीं और अब उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है। पूरा मामला सिवान के गोरेयाकोठी नारायण महाविद्यालय का है, जहां राजनीति शास्त्र के असिस्टेंट प्रोफेसर खुर्शीद आलम ने भड़काऊ पोस्ट किया, जिसके चलते उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।प्रोफेसर खुर्शीद आलम पर क्यों मचा बवालप्रोफेसर खुर्शीद आलम ने अपने फेसबुक पर ये विवादित पोस्ट लिखा, जो हाल ही में अचानक वायरल होने लगा। इस पोस्ट प्रोफेसर खुर्शीद ने पाकिस्तान और बांग्लादेश को मिल कर इंडियन मुस्लिमों के लिए एक अलग देश बनाने की बात लिखी है। उन्होंने संयुक्त पाकिस्तान और बांग्लादेश जिंदाबाद का नारा भी लिखा। इस विवादित पोस्ट के बाद यूजर्स ने सोशल मीडिया पर प्रोफेसर के खिलाफ जमकर नाराजगी जताई। गोरेयाकोठी के बीजेपी विधायक देवेशकान्त सिंह ने प्रोफेसर पर देशद्रोह का मुकदमा चलाते हुए कानूनी कार्रवाई की भी मांग की।शो-कॉज नोटिस पर बोले प्रोफेसर- मैं गलत नहींइस मामले को लेकर प्रोफेसर खुर्शीद आलम के खिलाफ सिवान के स्टूडेंट्स ने प्रदर्शन भी किया। उन्होंने प्रोफेसर के खिलाफ नारेबाजी की। आक्रोशित छात्र-छात्राओं ने राजनीति शास्त्र के असिस्टेंट प्रोफेसर खुर्शीद आलम का पुतला दहन करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई होने तक शिक्षण कार्य का बहिष्कार शुरू कर दिया था। हालांकि, खुर्शीद आलम ने अपनी पोस्ट को लेकर सफाई में कहा कि मैं गलत नहीं हूं। अपने पोस्ट पर मैं कायम हूं।विधायक ने की थी कार्रवाई मांग, अब इस्तीफापूरे मामले को लेकर गोरेयाकोठी के विधायक देवेशकान्त सिंह ने प्रोफेसर खुर्शीद आलम पर देशद्रोह का मुकदमा चलाने की बात की थी। उन्होंने खुर्शीद आलम के खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई की भी मांग की। हालांकि खुर्शीद आलम कहना था कि पाकिस्तान में अगर वंदे मातरम के नारे लगते हैं तो भारत में पाकिस्तान का झंडा उठाने पर क्या दिक्कत है। यह तो दोनो देशों को मिलाने की बात है। वहीं उन्हें यूनिवर्सिटी की तरफ से शो-कॉज नोटिस भेजा गया, जिसके बाद विवाद बढ़ता देख खुर्शीद आलम ने प्रोफेसर पद से इस्तीफा दे दिया।