प्रचंड फॉर्म में पृथ्वी साव, 379 रन ठोके, गावस्कर-पुजारा-लक्ष्मण सभी को पीछे छोड़ दिया

गुवाहाटी: ओपनर पृथ्वी साव का तूफानी फॉर्म जारी है। असम के खिलाफ मुंबई के इस धाकड़ सलामी बल्लेबाज ने 383 गेदों में 379 रन ठोके। 49 चौके और 6 छक्के की मैराथन पारी के दौरान पृथ्वी ने कई रिकॉर्ड अपने नाम किए। अब वह रणजी ट्रॉफी के इतिहास में सर्वाधिक स्कोर बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। हैदराबाद के खिलाफ लगाए गए संजय मांजरेकर के नाबाद 377 रन का स्कोर पीछे छूट चुका है। सबसे आगे सौराष्ट्र के बीबी निंबलकर हैं, जिन्होंने 75 साल पहले सौराष्ट्र के खिलाफ नाबाद 443 रन बनाए थे।

रिकॉर्ड तोड़ पृथ्वीपृथ्वी साव जिस अंदाज में बैटिंग कर रहे थे, लग रहा था कि 400 रन आसानी से पार कर जाएंगे, लेकिन स्पिनर रियान पराग ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट किया। अब पृथ्वी मुंबई रणजी टीम की इतिहास के सबसे स्कोरर भी चुके हैं। आज मैच के दूसरे दिन अपने कल के स्कोर 240 रन से उन्होंने पारी आगे बढ़ाई और देखते ही देखते तिहरा शतक ठोक दिया। गुवाहाटी में जारी ग्रुप-बी मैच में स्टंप्स के समय उनके साथ 73 रन बनाकर खेल रहे कप्तान अजिंक्य रहाणे शतक बना चुके हैं। दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 401 रन की ऐतिहासिक साझेदारी हुई। इससे पहले पृथ्वी ने डेब्यू कर रहे मुशीर खान (42) के साथ पहले विकेट के लिए 123 और अरमान जाफर (27) के साथ दूसरे विकेट के लिए 74 रन जोड़े थे।

गावस्कर-पुजारा-लक्ष्मण सब पिछड़े
दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने घरेलू क्रिकेट में अपना पहला तिहरा शतक सिर्फ 326 गेंदों में बनाया और इसके बाद गियर बदलते हुए 100 की स्ट्राइक रेट से रन बनाने लगे। 23 वर्षीय ने रणजी ट्रॉफी में मुंबई के लिए महान भारतीय बल्लेबाज सुनील गावस्कर के 340 रनों के रिकॉर्ड को तोड़ा फिर भारत के टेस्ट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा और वीवीएस लक्ष्मण के टोटल को भी पीछे छोड़ दिया। पुजारा ने रणजी ट्रॉफी के 2012-13 सीजन में कर्नाटक के खिलाफ सौराष्ट्र के लिए 352 रन बनाए थे, जबकि लक्ष्मण ने 1999-2000 सीजन में हैदराबाद के लिए कर्नाटक के खिलाफ 353 रन बनाए थे।

फिर ठोका टीम इंडिया का दरवाजा
पृथ्वी साव ने भारत के लिए भारत के लिए पांच टेस्ट मैच खेले हैं, आखिरी मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 17-19 दिसंबर, 2020 को एडिलेड में खेला था। बीसीसीआई चयन समिति ने अभी तक न्यूजीलैंड के खिलाफ आगामी सीमित ओवरों की श्रृंखला और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला के लिए भारतीय टीम की घोषणा नहीं की है, और साव के तिहरे शतक ने निश्चित रूप से चयनकर्ताओं का ध्यान आकर्षित करने के लिए पर्याप्त किया है। दिल्ली कैपिटल्स के इस क्रिकेटर को घरेलू क्रिकेट में शानदार फॉर्म के बावजूद चयनकर्ताओं ने लगातार नजरअंदाज किया, लेकिन अब इस रिकॉर्ड तोड़ पारी के साथ उन्हें नजरअंदाज करना मुश्किल होगा।