Deepfake पर नकेल कसने की तैयारी, राजीव चंद्रशेखर ने कहा- एक हफ्ते में जारी होंगे संशोधित आईटी नियम

केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने मंगलवार को कहा कि डीपफेक पर सलाह के अनुपालन को प्लेटफार्मों से “मिश्रित” किया गया है, और कहा कि इस मुद्दे से निपटने के लिए अगले 7 दिनों में सख्त आईटी नियमों को अधिसूचित किए जाने की संभावना है। उन्होंने कहा, सरकार ने पहले ही सोशल मीडिया और ऑनलाइन प्लेटफॉर्मों को स्पष्ट कर दिया था कि यदि डीपफेक पर उसकी सलाह का पूरी तरह से पालन नहीं किया गया, तो नए आईटी नियमों का पालन किया जाएगा। इसे भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर भी हुए डीपफेक वीडियो का शिकार, लोगों से की ये अपीलअपने बयान में उन्होंने कहा कि हमने सभी मध्यस्थों के साथ डिजिटल इंडिया संवाद के दो दौर आयोजित किए हैं। हमने उनका ध्यान मौजूदा नियमों की ओर खींचा है। हमने उनका ध्यान गैर-अनुपालन के परिणामों की ओर आकर्षित किया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमने एक एडवाइजरी जारी की है और हमने यह भी कहा है कि यदि हम अनुपालन से संतुष्ट नहीं हैं, तो हम नए संशोधित नियमों को अधिसूचित करेंगे जो विशेष रूप से गलत सूचना और डीप फेक के मुद्दे पर अधिक विशिष्ट हैं। राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि नवप्रवर्तन के प्रत्येक लाभ के साथ चुनौतियाँ और हानियाँ भी हैं। हमारी नीतियाँ, हमारे नियम और हमारा दृष्टिकोण खुले, सुरक्षित और जवाबदेह इंटरनेट का है। यह हमारा कर्तव्य है कि प्रत्येक भारतीय को इंटरनेट पर सुरक्षा और विश्वास का अनुभव हो… हम इसके लिए नियम और कानून बनाएंगे… डीपफेक मुद्दे पर, हमने एक एडवाइजरी अधिसूचित की है। हम आने वाले समय में नए आईटी नियम भी अधिसूचित करेंगे।  इसे भी पढ़ें: ‘Deepfake’ को लेकर चिंता जताने से संबंधित मामले का एक बड़ा आयाम है: Delhi High Courtइसके साथ ही उन्होंने कहा कि 65 वर्षों के ‘गरीबी हटाओ’ के खोखले नारों के बाद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने केंद्रित, मेहनती, दृढ़, भ्रष्टाचार मुक्त शासन और ‘गरीब कल्याण’ नीतियों के माध्यम से 25 करोड़ भारतीयों को गरीबी से बाहर निकाला। उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले पीएम मोदी ने 16 जनवरी को राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस घोषित किया था। स्टार्टअप और इनोवेशन के क्षेत्र में देश ने जो बदलाव देखा है, उसका गहरा असर है और हम इसका जश्न मनाते हैं… आने वाले दशक में स्टार्टअप की अगली लहर आने वाली है।