Delhi में झुग्गी बस्तियों को लेकर राजनीति, AAP और BJP आमने-सामने, आतिशी ने कहा- लड़ते रहेंगे

दिल्ली के कैबिनेट मंत्री आतिशी और सौरभ भारद्वाज ने राष्ट्रीय राजधानी में झुग्गी बस्तियों का दौरा किया और भाजपा पर झुग्गीवासियों को हटाने की साजिश रचने का आरोप लगाया। दिल्ली की झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों को बेघर करने की भाजपा शासित केंद्र सरकार की कथित नीति के खिलाफ रविवार को आप का ‘घर बचाओ, भाजपा हटाओ’ अभियान शुरू हुआ। आतिशी ने बी आर कैंप झुग्गी बस्ती का दौरा किया, जबकि उनके कैबिनेट सहयोगी भारद्वाज ने दक्षिणी दिल्ली में सफदरजंग फ्लाइंग क्लब के पास झुग्गियों के निवासियों से मुलाकात की। इसे भी पढ़ें: ‘झुग्गीवासियों पर पीएम मोदी को आती है शर्म’, AAP का दावा- दिल्ली की सभी झुग्गियों को तोड़ना चाहता है केंद्रआतिशी ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार दिल्ली की झुग्गी बस्तियों को उजाड़ कर वहां के निवासियों को उनके घरों से 40 से 50 किमी दूर बसाने की साजिश कर रही है। आप और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उनके (झुग्गीवासियों) साथ खड़े हैं। मंत्री ने कहा कि जब तक बी आर कैंप के लोगों को उनके मौजूदा घरों के बराबर जगह पर फ्लैट नहीं मिलेंगे, तब तक वे डीडीए को एक भी घर छूने नहीं देंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि चाहे बुलडोजर के सामने खड़ा होना पड़े या कोर्ट से आदेश लेना पड़े, आम आदमी पार्टी बी आर कैंप की झुग्गियों में रहने वाले लोगों को बेघर नहीं होने देगी। बीजेपी को झुग्गी-झोपड़ी वालों से शर्म आती है, इसीलिए कड़ाके की ठंड के बीच लोगों के घरों पर बुलडोजर चलवा रही है। दिल्ली की मंत्री ने कहा, भाजपा के नेतृत्व वाली डीडीए झुग्गीवासियों को 50 किमी दूर नरेला और काकरोला में स्थानांतरित होने के लिए मजबूर कर रही है, जिससे उन्हें उनकी नौकरियों और उनके बच्चों के स्कूलों से मीलों दूर धकेल दिया जा रहा है। इसी तरह के विचार व्यक्त करते हुए, भारद्वाज ने कहा कि ड्राइवर, नौकरानियां, रसोइया आदि अपने परिवारों के साथ दिल्ली के जेजे क्लस्टर में रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार इन लोगों (झुग्गीवासियों) को उनके घरों से निकालने के लिए उनके खिलाफ साजिश रच रही है। कानून के अनुसार, अधिकारी किसी सूचीबद्ध क्लस्टर को उचित घर दिए बिना उसे ध्वस्त नहीं कर सकते। भाजपा जो कर रही है वह अवैध और अमानवीय है। भारद्वाज ने न्यायपालिका से दिल्ली में किसी भी झुग्गी-झोपड़ी (जेजे) समूह को तब तक ध्वस्त करने का आदेश नहीं देने का आग्रह किया, जब तक कि झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों को कानून के अनुसार यथास्थान घर उपलब्ध नहीं करा दिया जाता। अपनी चिंता व्यक्त करते हुए, मंत्री ने आगे कहा कि सफदरजंग फ्लाइंग क्लब के स्लम क्लस्टर में, रेलवे ने एक नोटिस जारी किया है जिसमें कहा गया है कि लोगों को खुद ही खाली कर देना चाहिए, जबकि पुनर्वास की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। इसे भी पढ़ें: AAP-Congress के बीच आज होगी अहम बैठक, सीट-बंटवारा बातचीत है संभव, ये नेता लेंगे हिस्साबीजेपी ने आप पर हमला बोलते हुए कहा कि केंद्र ने दिल्ली के गरीबों के लिए कठपुतली कॉलोनी, कालकाजी और जेलरवाला बाग में हजारों घर बनाए हैं लेकिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को बताना चाहिए कि उन्होंने गरीबों को घर देने के लिए क्या किया है। उसने कहा कि मोदी सरकार दिल्ली में 72 लाख लोगों को लगातार मुफ्त राशन उपलब्ध करा रही है, लगभग दो लाख मुफ्त उज्ज्वला कनेक्शन प्रदान किए हैं और लाखों गरीबों को सुनिधि रोजगार ऋण प्रदान किया है। दिल्ली भाजपा प्रमुख वीरेंद्र सचदेवा ने कहा, “इसके विपरीत, वादे के बावजूद, श्री केजरीवाल ने प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ किराए के मकानों में रहने वाले वास्तविक गरीबों तक नहीं पहुंचने दिया।”