वडोदरा नाव हादसे में पुलिस ने कंपनी के तीन निदेशकों के साथ छह को पकड़ा, फॉरेंसिक जांच में जुटी एसआईटी

अहमदाबाद: के वडोदरा नाव हादसे में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अब छह आरोपियों को अरेस्ट कर लिया है। वडोदरा सिटी पुलिस आयुक्त अनुपम सिंह गहलोत ने 24 घंटे में पुलिस की तरफ से की गई कार्रवाई का ब्योरा पेश किया है। गहलोत ने कहा कि सभी आरोपियों को धरपकड़ के लिए कोशिश की जा रही है। पुलिस ने अभी तक छह आरोपियों को पकड़ा है। उन्होंने कहा कि एफआईआर में अगर किसी मृत व्यक्ति का नाम है तो उसकी जांच की जाएगी। गहलोत ने बताया कि इस मामले में कुल 18 आरोपिों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। इसमें छह को पुलिस कब्जे में कर चुकी है। इनसे पूछताछ की जा रही है। तीन निदेशकों को किया अरेस्ट वडोदरा नाव दुर्घटना मामले में नगर पालिका के कार्यकारी अभियंता ने आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। हरणी झील में नावों का ठेका कोटिया नाम की कंपनी को दिया गया था और पता चला है कि कंपनी में करीब 15 लोग शामिल हैं। इनमें हितेश कोटिया मौत हो चुकी है। इसलिए सभी मौजूदा निदेशकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। वडोदरा में हरणी झील में 2 शिक्षकों और 12 बच्चों समेत 14 की मौत हो गई थी। पुलिस सूत्रों के मुताबिक अब तक कुल 6 आरोपियों को पकड़ा जा चुका है। जिसमें से लेक जोन मैनेजर, बोट संचालक और बोट सेफ्टी से जुड़े 3 लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस के अनुसार कंपनी के तीन निदेशकों को अरेस्ट कर लिया गया है। SIT ने शुरू की मामले की जांच अतिरिक्त पुलिस आयुक्त मनोज निनामा के नेतृत्व में एसआईटी 7 लोगों की जांच शुरु कर दी है। SIT इस हादसे की फॉरेंसिक जांच कर रही है। पुलिस यह भी पता लगा रही है कि इस कंपनी का नगर पालिका के साथ क्या अनुबंध था? कंपनी के शीर्ष लोग कौन हैं? क्या उन्होंने नाव की सवारी के लिए किसी सहायक कंपनी से अनुबंध किया था? इन सभी सवालों के जवाब के लिए शासन के आदेशानुसार कार्रवाई की जा रही है।