केदारनाथ में आस्था, गरुड़चट्टी से खास लगाव, याद कर भावुक हो गए थे पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ और बद्रीनाथ दौरे से पहले गरुड़चट्टी में बड़ा हादसा हुआ है. तीर्थयात्रियों को गुप्तकाशी से केदारनाथ ले जा रहा एक हेलीकॉप्टर मंगलवार को गरुड़ चट्टी के पास क्रैश हो गया. इस घटना में पायलट समेत 7 लोगों की मौत हुई है. बताया गया कि प्लेन कोहरे और खराब विजिबिलिटी की वजह से क्रैश हो गया. दरअसल, गरुड़चट्टी से प्रधानमंत्री मोदी का खास लगाव रहा है. बाबा केदार में उनकी गहरी आस्था भी किसी छिपी नहीं है. बतौर प्रधानमंत्री वह 5 बार केदारनाथ आ चुके हैं.
प्रधानमंत्री कार्यालय के ऑफिशियल अकाउंट से पिछले साल एक ट्वीट किया गया था और लिखा गया था कि “गरुड़चट्टी को याद कर भावुक हुए प्रधानमंत्री.” पीएम मोदी जब भी गरुड़चट्टी में बिताए पुराने दिनों को याद करते हैं, तो भावुक हो उठते हैं. क्योंकि इस जगह से उनके गहरे संबंध रहे हैं. जब-जब इस जगह का जिक्र उठता है, तब तब उनकी आंखें नम हो जाती हैं. 1985-86 में पीएम मोदी ने गरुड़चट्टी में लंबे समय तक साधना की थी. वह यहां स्थित गुफा में बाबा केदार की साधना में लीन रहे थे. बाबा केदार के प्रति उनकी गहरी आस्था है. शायद यही वजह है कि वो केदारनाथ दौरे के वक्त गरुड़चट्टी का जिक्र करना कभी नहीं भूलते.
जब गरुड़चट्टी को केदारनाथ से जोड़ा
2013 की केदारनाथ त्रासदी के वक्त गरुड़चट्टी को जाने वाला मार्ग पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था, जिससे लोगों को काफी परेशानियों होती थी. लोगों की परेशानियों को ध्यान में रखते हुए पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट के तहत गरुड़चट्टी को केदारनाथ से जोड़ने की योजना बनाई गई. ये योजना अक्टूबर 2017 में लाई गई थी. जबकि एक साल बाद इसे पटल पर उतारते हुए गरुड़चट्टी से केदारनाथ को जोड़ने वाली 3 किलोमीटर लंबे पैदल रास्ते का निर्माण किया गया. अब तो मंदाकिनी नदी पर 63 मीटर लंबा ब्रिज भी बना दिया गया है.
5 बार किया केदारनाथ का दौरा
पीएम मोदी देश के पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं, जो अपने 8 सालों के कार्यकाल में 5 बार केदारनाथ के दर्शन के लिए आ चुके हैं. पीएम इस साल भी केदारनाथ का दौरा करेंगे. वह दीपावली से पहले 21 अक्टूबर को बद्रीनाथ और केदारनाथ के दर्शन के लिए जाएंगे. इस दौरान प्रधानमंत्री कई पुनर्निर्माण परियोजनाओं की समीक्षा भी करेंगे. पीएम पहले केदारनाथ का दौरा करेंगे. इसके बाद बाद वह बद्रीनाथ जाएंगे.