भारत का बंटवारा हमारे इतिहास का सबसे पीड़ा दायक और दर्दनाक घटना :भाजपा

छत्तीसगढ़ के मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कहा है कि 14 अगस्त 1947 में भारत का बंटवारा हमारे इतिहास का सबसे पीड़ा दायक और दर्दनाक घटना थी जिसमें लाखों लोगों ने अपनों को खोया।
भाजपा नेताओं ने बताया कि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा चलाए जा रहे विशेष अभियान ‘मेरा माटी, मेरा देश’ के तहत बिलासपुर जिले के बिल्हा कस्बे में आयोजित तीन दिवसीय मल्टीमीडिया चित्र प्रदर्शनी की शुरूआत की।
उन्होंने बताया कि इसके साथ ही 14 अगस्त 1947 के विभाजन को याद करते हुए ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ मनाया गया तथा विभाजन की विभीषिका झेलकर बलिदान देने वाले लाखों निर्दोष नागरिकों को श्रद्धाजंली दी गयी।
इस अवसर कौशिक ने कहा कि 14 अगस्त 1947 में भारत का बंटवारा हमारे इतिहास का सबसे पीड़ा दायक और दर्दनाक घटना थी। इस विभाजन के कारण लाखों लोगों ने अपनों को खोया, क्रूरता और विस्थापन की विभीषिका को झेला।
कौशिक ने कहा कि देश के बंटवारे की विभीषिका ने लाखों परिवारों को अपनी जन्मभूमि से अलग कर दिया। इस त्रासदी की स्मृतियां आज भी असंख्य लोगों के लिए बुरे स्वप्न से कम नहीं हैं।
वहीं रायपुर स्थित भारतीय प्रबंधन संस्थान में विभाजन की त्रासदी को याद करते हुए एक प्रदर्शनी का आयोजन किया तथा विभाजन के दौरान मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई।
रेल विभाग के अधिकारियों ने बताया कि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर मंडल में विभाजन विभीषिका दिवस मनाया गया। दिवस का उद्देश्य वर्तमान और भावी पीढ़ियों को विभीषिका के दौरान लोगों द्वारा सही गई वेदना और यातना का स्मरण कराना है।
राज्य के सत्ताधारी दल कांग्रेस ने इस कार्यक्रम को लेकर कहा है कि भारत विभाजन की गुनाहगार हिंदु महासभा और मुस्लिम लीग थी।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने एक बयान में कहा है कि विभाजन की विभीषिका कार्यक्रम भाजपा का अपने पूर्वजों के गुनाह पर पर्दा डालने के लिए है।
शुक्ला ने कहा है कि भारत विभाजन के गुनहगार हिंदू महासभा, आरएसएस और मुस्लिम लीग जैसी साम्प्रदायिक ताकतें थी, जो अंग्रेजों की फूट डालो राज करो नीति में सहयोग करती रही।