आसानी से तेजस्वी को CM नहीं बनने देंगे ‘पलटूराम’, सुशील मोदी का नीतीश पर तंज

बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद जबसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिल्ली की राजनीति में दिलचस्पी दिखाई है, तभी से आरजेडी नेता तेजस्वी को सीएम बनाने की मांग करने लगे हैं और नीतीश को दिल्ली जाने की सलाह दे रहे हैं. आरजेडी नेताओं के बयान से जेडीयू असहज की स्थिति में है. जेडीयू की यह स्थिति देख भाजपा भी उन पर हमले कर रही है. ताजा हमला पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने किया है. सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश बाबू को वह अच्छे से जानते हैं. दो मिनट में पलटने वाले नेता हैं. अब तक सात बार पलट चुके हैं तो आठवीं बार क्यों नहीं?
बता दें, अभी हाल ही में आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने तेजस्वी यादव को सीएम बनाने की मांग की थी. जगदानंद सिंह ने कहा था कि, तेजस्वी यादव 2023 में बिहार के सीएम बनेंगे. देश नीतीश कुमार का इंतजार कर रहा है. 2022 के बाद वह दिल्ली की राजनीति करेंगे. जगदानंद सिंह के बयान के बाद जेडीयू नेता तिलमिला गए. आनन-फानन में जेडीयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने ट्वीट कर कहा, “जगदा बाबू का बयान उस पिता के एक्शन की तरह है, जो किसी अनहोनी के भय से अपने बेटा या बेटी की शादी जैसे-तैसे निपटा लेना चाहता है.”
RJD नेताओं के बयान से JDU परेशान
जगदानंद सिंह के बाद आरजेडी के विधायक और प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने भी कहा कि तेजस्वी यादव का सीएम बनना तय है. हम लोगों को 2025 के विधानसभा चुनाव का इंतजार नहीं करना होगा. तेजस्वी यादव इससे पहले ही मुख्यमंत्री पद संभाल लेंगे. भाई वीरेंद्र ने कहा कि हम लोग बस सही समय का इंतजार कर रहे हैं. वहीं आरजेडी नेताओं के बयान से असहज में जेडीयू नेता कुछ खुलकर नहीं बोल पा रहे हैं, लेकिन भाजपा जेडीयू और नीतीश कुमार पर जमकर चुटकी ले रही है.
आसानी से सत्ता नहीं चला पाएगी JDU
पूर्व डिप्टी सीएम व भाजपा से राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कहा कि हमसे नाता तोड़ने के बाद क्या जेडीयू के नेता आसानी से सत्ता चला पाएंगे. अगर ऐसा सोच रहे हैं तो भूल जाएं. आरजेडी इतनी आसानी से उनको सत्ता नहीं चलाने देगी. शायद जेडीयू नेताओं को यह नहीं पता है कि नीतीश और लालू में शह-मात का खेल चल रहा है. लालू अपने बेटे तेजस्वी को हर हालत में सीएम बनने देखना चाहते हैं, लेकिन नीतीश कुमार अपने लिए कुछ अच्छा सोच रहे हैं.
CM की कुर्सी नहीं छोड़ना चाहते नीतीश
राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश को लगता है कि 2024 में वह बहुत कुछ पा जाएंगे. यही कारण है कि वह 2024 का इंतजार कर रहे हैं. उससे पहले सीएम की कुर्सी छोड़ना नहीं चाहते हैं, जबकि आरजेडी की तरफ से उन पर सीएम पद खाली करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है. सुशील मोदी ने कहा कि लालू यह बात जान रहे हैं कि 2025 के विधानसभा चुनाव में भाजपा अकेले दम पर सत्ता में वापसी करेगी. यही कारण है कि वह अपने बेटे को मुख्यमंत्री बनते देखना चाहते हैं.
विपक्षी एकता की हुंकार भर रहे नीतीश
सुशील मोदी ने कहा कि अभी महागठबंधन की सरकार बने कुछ ही महीने हुए, लेकिन जिस तरह से आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव को सीएम बनाने की मांग, उसको देखकर लगता है कि नीतीश कुमार को भारी दबाव है. आज नीतीश कुमार विपक्षी एकता की हुंकार भर रहे हैं. आखिर ऐसी नौबत क्यों आ पड़ी है. नीतीश कुमार को भी पता है कि 2024 की राह उनके लिए इतनी आसान नहीं है. इसीलिए वह किसी भी हालत में सीएम की कुर्सी नहीं छोड़ेंगे.