भारत के एक कदम से घुटनों पर आ गया था पाकिस्तान, अजय बिसारिया ने बताए बालाकोट एयर स्ट्राइक से जुड़े 5 अनसुने किस्से

नई दिल्ली: भारत के पूर्व राजनयिक अजय बिसारिया इस समय चर्चा में हैं। उन्होंने हाल ही में एक किताब लिखी है। नाम है- ‘एंगर मैनेजमेंट: द ट्रबल्ड डिप्लोमेटिक रिलेशनशिप बिटविन इंडिया एंड पाकिस्तान। इस किताब में अजय बिसारिया ने काफी कुछ बताया है। सबसे दिलचस्प बालाकोट स्ट्राइक है। कैसे भारत ने अपनी एक कूटनीतिक चाल से पड़ोसी मुल्क को घुटनों पर ला दिया था। तब के पाक पीएम इमरान खान को भारत की ओर से हमले का डर था। घबराए इमरान खान पीएम मोदी से बात करना चाहते थे लेकिन उनसे बात नहीं की गई। विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को पाक के चंगुल से छुड़ाने सहित आर्टिकल 370 को हटाने पर पड़ोसी मुल्क के रिएक्शन से लेकर ऐसी कई बाते हैं जो इस समय टॉक ऑफ द टाउन बनी हुई हैं। आज हम आपको किताब में जिक्र बालाकोट एयर स्ट्राइक से जुड़े 5 अनसुने तथ्यों के बारे में बताएंगे।1. अभिनंदन को न भेजता भारत तो हो जाता युद्ध पूर्व राजनयिक अजय बिसारिया ने अपनी किताब में बताया कि भारत विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की वापसी पर काफी कड़ा रुख अपनाया था। भारत ने पाकिस्तान की ओर 9 मिसाइलें भेजने का फैसला कर लिया था। वहीं अभिनंदन को वापस लाने के लिए एक विमान भेजने की भी तैयारी कर ली थी। हालांकि पाकिस्तान ने इसकी अनुमति नहीं दी थी। बता दें कि अभिनंदन ने 27 फरवरी 2019 को एक पाकिस्तानी जेट को मार गिराया था। इसी सिलसिले नें अभिनंदन पाकिस्तान की सीमा में दाखिल हो गए थे। दो दिन तक उन्हें बंधक बनाया गया था। यह भारत का ही खौफ था कि पाकिस्तान ने दो दिन बाद ही सकुशल हमें वापस कर दिया था। 2. इमरान खान के फोन कॉल को पीएम मोदी ने किया इग्नोर बिसारिया ने अपनी किताब में बताया कि पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को हुए आतंकी हमले के जवाब में भारत ने बालाकोट एयर स्ट्राइक की थी। इस हमले से पाकिस्तान के तब के पीएम इमरान खान भी खौफ खा गए थे। घबराए इमरान खान पीएम मोदी से बात करना चाहते थे। बिसारिया ने आगे बताया कि आधी रात मुझे दिल्ली में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर सुहैल महमूद का फोन आया था। बिसारिया ने कहा कि मैंने बताया कि हमारे पीएम बात करने के लिए उपलब्ध नहीं हैं। हां कोई आपके पीएम इमरान खानका संदेश हो तो बता सकते हैं। उसके बाद पीएम मोदी को इमरान खान ने फोन नहीं किया। 3. 2019 में अल कायदा करने वाला था भारत पर हमलाआतंकी संगठन अल कायदा साल 2019 में भारत में आतंकी हमले का प्लान बना रहा था। इसकी भनक इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस(ISI) को लगी। आप आश्चर्य करेंगे कि अल कायदा के इस हमले को रोकने के लिए ISI ने मदद की थी। यह भी सच है कि ISI पुलवामा वाली घटना दोहराना नहीं चाहता था। बदले का मकसद नहीं था। अजय बिसारिया ने अपनी किताब में इसका विस्तार से जिक्र किया है।4. पीएम मोदी ने कहा था- कत्ल की रातअजय बिसारिया ने ANI को दिए इंटरव्यू में बताया कि इमरान खान को बताया कि भारत ने पाकिस्तान को एक गंभीर चेतावनी दी है। अगर पाकिस्तान ने अभिनंदन वर्धमान को जल्द रिहा नहीं किया, तो भारत पाकिस्तान पर सैन्य कार्रवाई करेगा। मोदी के इस कड़े रुख से पाकिस्तान घबरा गया था। उसने जल्द ही अभिनंदन वर्धमान को रिहा कर दिया। मोदी ने इस रात को कत्ल की रात कहा था। उन्होंने कहा था कि अगर पाकिस्तान ने अभिनंदन वर्धमान को नहीं रिहा किया, तो वह पाकिस्तान पर सैन्य कार्रवाई करने से नहीं हिचकिचाएगा। इस घटना ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को बढ़ा दिया था। लेकिन यह भी साबित कर दिया था कि मोदी आतंकवाद के खिलाफ कड़ा रुख अपनाने के लिए तैयार हैं।5. आर्टिकल 370 का हटना पाकिस्तान के लिए था सरप्राइज पैकेज अजय बिसारिया ने अपनी किताब में आर्टिकल 370 के बारे में भी बताया। बिसारिया ने बताया कि जब भारत सरकार ने कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाया तो यह पाकिस्तान के लिए झटका था। अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को निरस्त करने और क्षेत्र को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के केंद्र के फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंध बिगड़ गए। पूर्व राजनयिक ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि विपक्ष पहले से ही खान की आलोचना कर रहा था, उन्हें याद दिलाते हुए कि उन्होंने कहा था कि अगर मोदी फिर से चुने जाते हैं तो कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए अच्छा होगा। भारत ने यह बता दिया था कि कश्मीर को लेकर हमारी और पाकिस्तान की रणनीति अलग-अलग है।