इमरान खान को अपने लिए खतरा मानती है पाकिस्तानी सेना, सत्ता में आए तो लेंगे बाजवा का बदला?

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और सेना के बीच के रिश्ते कभी अच्छे नहीं रहे हैं। पाकिस्तानी सेना की टॉप लीडरशिप का मानना है कि इमरान खान पाकिस्तानी सेना के अस्तित्व के लिए खतरा हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सूत्रों ने कहा, ‘इमरान खान अगर सत्ता में आते हैं तो वह बहुत सी चीजों को सिस्टम में बदल देंगे जो संस्थान के लिए अच्छा नहीं होगा। सेना की टॉप लीडरशिप का मानना है कि जनरल बाजवा से खराब रिश्तों का बदला इमरान खान संस्था से लेंगे। इसलिए उन्हें एक खतरे की तरह देखा जा रहा है।’ न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक सूत्र ने कहा, ‘खान संसद की मदद से पाकिस्तानी सेना में बड़े संरचनात्मक बदलाव की प्लानिंग कर रहे हैं। जब वह सत्ता में आएंगे तो वह पाकिस्तानी सेना का ढांचा पूरी तरह बदल देंगे। वह पाकिस्तान के 21 और 22 ग्रेड के अधिकारियों की तरह मेजर जनरल, लेफ्टिनेंट जनरल की नियुक्ति भी करेंगे।’ सूत्र ने कहा कि इमरान खान और बाजवा कभी एकदम खास दोस्त थे, लेकिन जनरल फैज के आईएसआई के डायरेक्टर जनरल पद से हटने के बाद दोनों के रिश्तों में दूरियां आ गईं।सेना को नहीं इमरान पर भरोसादरअसल इमरान खान चाहते थे कि जनरल फैज हमीद सेना प्रमुख बनें, लेकिन पाकिस्तान के अंदर अधिकारियों ने इसका विरोध किया। रिपोर्ट्स में कहा गया, ‘खान ने अपनी कही बातों पर कई बार यू-टर्न लिया। उन्होंने सेना से जो वादे किए उसे कभी पूरा नहीं किया और हमेशा मना करते रहे। इसलिए अब उन पर सेना भरोसा करने को तैयार नहीं है।’ इमरान ने सेना से ही अपने रिश्ते नहीं खराब किए, बल्कि प्रधानमंत्री रहने के दौरान पाकिस्तान के सबसे करीबी देशों से भी पंगा लिया।इमरान ने बढ़ाया संकटरिपोर्ट्स में दावा किया गया कि इमरान ने प्रधानमंत्री रहते हुए अमेरिका, सऊदी अरब और UAE से रिश्ते खराब किए। इसमें यह भी कहा गया कि जनरल बाजवा ने इमरान को रूस न जाने को कहा था, लेकिन इमरान युद्ध के दौरान ही वहां पहुंच गए। इमरान ने अमेरिका के खिलाफ बयानबाजी की जिससे पाकिस्तान की राजनीति बदल गई। पाकिस्तान की खराब आर्थिक स्थिति के बारे में सूत्र ने कहा कि जब पूरी दुनिया में तेल की कीमतें बढ़ रही थीं, तब इमरान ने सब्सिडी दी और IMF के साथ डील रोकी, जिसने पाकिस्तान के डिफॉल्ट होने के संकट को बढ़ाया।