पटना में एकता के पाठ के लिए पहुंचे विपक्षी दल एक-दूसरे के कपड़े फाड़ने में लग गए

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पटना में तीन दिन पहले आयोजित विपक्ष की बैठक पर सोमवार को तंज कसा। उन्होंने कहा कि इस जमावड़े में एक-दूसरे को एकता का पाठ पढ़ाने पहुंचे विपक्षी दल एक-दूसरे के कपड़े फाड़ने में जुट गए।

सिंधिया ने यहां देवी अहिल्याबाई होलकर हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा कि बिहार की राजधानी पटना में 23 जून को विपक्ष की बैठक में आम और खास के बीच बड़ी दरार अपने आप उजागर हो गई।
उन्होंने कहा, इस बैठक में सभी विपक्षी दल एक-दूसरे को एकता का पाठ पढ़ाने के लिए पहुंचे थे, लेकिन वे एक-दूसरे के कपड़े फाड़ने में लग गए।
सिंधिया ने कहा कि एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा भारत को प्रगति पथ पर आगे बढ़ने और देश के 140 करोड़ लोगों के भविष्य के नव निर्माण के लिए संकल्पित है, तो दूसरी ओर ‘‘विपक्षी टोली’’ केवल अपने भविष्य की चिंता करते हुए साथ आने की कोशिश में लगी है।उन्होंने कहा,‘‘मुझे पूरा भरोसा है कि 2024 के अगले लोकसभा चुनाव में मोदी का नेतृत्व जन समर्थन से नया इतिहास रचेगा।’’
सिंधिया ने राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालूप्रसाद यादव द्वारा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को जल्द शादी करने की सलाह पर भी तंज कसा और कहा कि लगता है कि पटना में विपक्ष की बैठक शायद गांधी को यह मशविरा देने के लिए ही आयोजित की गई थी।
उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा,‘‘यादव ने 14 विपक्षी दलों की बैठक में गांधी को अपने दिल की बात सुनाई थी और मैं मानता हूं कि इस बात का असर जरूर होगा।’’
सिंधिया ने प्रधानमंत्री मोदी के अमेरिका और मिस्र के दौरों को ऐतिहासिक करार दिया और कहा कि उनकी इन यात्राओं से कारोबार, नागर विमानन, रक्षा और योग सरीखे क्षेत्रों में वसुधैव कुटुम्बकम का संदेश दिया गया।
शाजापुर जिले में भाजपा के पूर्व विधायक अरुण भीमावद द्वारा सिंधिया के लिए आपत्तिजनक टिप्पणी पर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने चुप्पी साधे रखी और वह इस बारे में मीडिया के सवालों को अनसुना करते हुए गाड़ी में बैठकर रवाना हो गए।