OPINION: अमृतपाल को पहले क्यों नहीं रोका गया? पंजाब में यह नौबत आई कैसे

ध्रुवीकरण की राजनीति ने खालिस्तान की विचारधारा को वह जगह दी, जो इसे लंबे समय से नहीं मिला था