OPINION: बेवफाई का शक, ईगो, कत्ल…ये रिश्तों को आखिर हो क्या रहा है

नई दिल्ली : अगर रिश्तों में शक का दीमक लग गया तो उसको पूरी तरह चट ही कर जाता है। रिश्तों के बीच अगर शक आ गया तो वे सिर्फ खत्म तक नहीं होते बल्कि कई बार बहुत ही बदसूरत मोड़ ले लेते हैं। शक न सिर्फ रिश्तों का कत्ल करता है बल्कि अपनों का कत्ल तक करा देता है। बेवफाई में कत्ल तो कभी बेवफाई के शक में कत्ल। कभी ईगो के लिए अपने ही जिगर के टुकड़े की हत्या तो कभी कर्ज के बोझ से मुक्ति की चाह में पलायनवादी कायरता में फूल सी नाजुक बिटिया का कत्ल। कभी शौक और सपने पूरे नहीं होने पर पति का मर्डर….। हैदराबाद में बेवफाई के शक में एक ऑटो ड्राइवर ने पत्नी को चाकुओं से गोदकर मार डाला। बेंगलुरु में एक शख्स को पत्नी के चरित्र पर शक था तो सोते वक्त लकड़ी के लट्ठ से उसे कूचकर मार डाला। नॉर्थईस्ट दिल्ली में एक व्यक्ति ने बेवफाई के शक में पत्नी को मार डाला। आर्टिफिशियल इंटेलिंजेस के क्षेत्र में काम करने वाले स्टार्टअप की महिला सीईओ ने 4 साल के बेटे को सिर्फ इसलिए मार डाला कि वह नहीं चाहती थी कि उसका पति बच्चे से मिले। कर्ज के बोझ तले दबे एक शख्स ने उससे मुक्ति पाने के लिए नई पहचान के साथ नई जिंदगी शुरू करने का फैसला करता है और इस सिलसिले में अपनी ही मासूम बिटिया को मार डालता है। बाद में अदालत उसे उम्रकैद की सजा देती है। पति दुबई घुमाने नहीं ले गया तो पत्नी ने उसे मार डाला। रिश्तों के कत्ल की खबरों से आजकल अखबार अटे पड़े रहते हैं। एक दिन पहले की बात है। मंगलवार सुबह हैदराबाद में एक ऑटो ड्राइवर ने पत्नी को चाकुओं से गोदकर मार डाला। हैदराबाद के अब्दुलपुरमेट में 41 वर्ष की पुष्पलता का शव 2 बेडरूम वाले एक सरकारी फ्लैट में मिला। आरोपी की पहचान विजय के रूप में हुई। उसकी बहन को साफ-सफाई के एवज में हाल ही में 2 बीएचके फ्लैट मिला था। विजय ने चाकू से ताबड़तोड़ हमला करके पुष्पलता की हत्या कर दी। इतना ही नहीं, जब उसके शरीर में किसी तरह की भी हरकत नहीं रही तब उसने पुष्पलता के सिर को धड़ से अलग कर दिया। दोनों की 15 वर्ष पहले शादी हुई थी और उनके 2 बच्चे भी थे। विजय ने सिर्फ इसलिए अपनी पत्नी को मार डाला क्योंकि उसे बेवफाई का शक था।हालिया वक्त में की ये कोई इकलौती घटना नहीं है। इंटरनेट पर सर्च कीजिए, ऐसी खबरों का अंतहीन सिलसिला दिखेगा। पिछले 5-6 महीने में घटीं इन कुछ घटनाओं को ही देखिए। पिछले साल नवंबर में एक शख्स ने पहले तो गला घोंटकर पत्नी को मार डाला और बाद में उसके शव को एक सुनसान इलाके में फेंक आया। वजह वही बेवफाई का शक। नवंबर 2023 में ही बेंगलुरु के अनेकल में एक 40 वर्ष की महिला की उसके पति ने सोते वक्त लकड़ी के लट्ठा से कूच-कूचकर मार डाला। वजह वही बेवफाई का शक। पिछले साल सितंबर में नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के जाफराबाद में एक व्यक्ति ने एक्स्ट्रामैरिटल अफेयर के शक में अपनी पत्नी को मार डाला। दोनों की 11 साल की बेटी भी मां को बचाने की कोशिश में जख्मी हुई थी। पिछले साल अगस्त में केरल के कोल्लम जिले में 30 साल के एक शख्स ने दिनदहाड़े अपनी पत्नी का गला रेत दिया। 23 वर्ष की पत्नी तिरुवनंतपुरम स्थित लुलु मॉल में मॉडल के तौर पर काम करती थी। दोनों की लव मैरिज हुई थी। पति ने कुछ दिन पहले ही थाने में अपनी पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने उस दिन पत्नी को थाने बुलाया था। जब वह थाने से बाहर आई तब पति ने चाकू से उसका गला रेत दिया। हालांकि, महिला खुशकिस्मत रही और उसकी जान बच गई।पिछले साल नवंबर में पुणे की एक महिला ने पति की सिर्फ इसलिए हत्या कर दी कि वह उसे बर्थडे गिफ्ट के तौर पर दुबई की यात्रा नहीं कराया। पुणे के पॉश इलाके वानावाडी की एक सोसाइटी में एक बिजनसमैन को अपनी पत्नी को दुबई घुमाने से इनकार करने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी। निखिल खन्ना ने 6 साल पहले रेनुका से लव मैरिज की थी। रेनुका ने अपने जन्मदिन पर दुबई की ट्रिप नहीं कराने और शादी की सालगिरह पर महंगे गिफ्ट नहीं दिलाने को लेकर पति से झगड़ गई। बात इतनी बिगड़ गई कि उसने पति के चेहरे पर जोरदार घूसा मार दिया। घूसा इतना जोरदार था कि निखिल के दांत टूट गए और चेहरा लहूलुहान हो गया। वह तुरंत बेहोश होकर जमीन पर गिर गया और उसकी मौत हो गई।इसी महीने गोवा में सूचना सेठ नाम की एक महिला सीईओ ने 4 साल के बेटे को सिर्फ इसलिए मार डाला कि वह नहीं चाहती थी कि उसका पति बच्चे से मिले। पति-पत्नी तलाक की प्रक्रिया से गुजर रहे थे और बच्चे की कस्टडी को लेकर दोनों में कानूनी लड़ाई चल रही थी। अदालत ने आदेश दिया था कि वह हर रविवार को बेटे को पिता से मिलाएगी। इससे बचने के लिए वह बेंगलुरु से गोवा चली गई ताकि रविवार को बच्चे को उसके पिता से न मिलवाना पड़े। उसके ईगो ने उसे इतना अंधा बना दिया कि उसने ममता और वात्सल्य को भी कलंकित कर दिया। उसका ईगो ममता पर भारी पड़ गया और उसने अपने ही हाथों अपनी कोख उजाड़ दी। 4 साल के मासूम बेटे की हत्या के बाद वह शव को बैग में भरकर टैक्सी से बेंगलुरु के लिए रवाना हो गई लेकिन भेद खुल गया और वह गिरफ्तार कर ली गई। पुलिस से पूछताछ में उसने ये भी बताया कि बेटे का चेहरा उसके पिता से मिलता था, जिसे वह नापसंद करती थी। हत्या की एक वजह ये भी थी।पिछले महीने केरल के एर्नाकुलम की एक अदालत ने अपनी ही बेटी के हत्यारे पिता को उम्रकैद की सजा सुनाई। कातिल पिता एक कारोबारी था और कर्ज के बोझ तले दबा हुआ था। कर्ज न चुकाना पड़े, इसके लिए उसने नई पहचान के साथ नए सिरे से जिंदगी जीने का प्लान बनाया। लेकिन अगर वह नए सिरे से कहीं गुमनाम जिंदगी जीना शुरू कर देता है तो बेटी का क्या होगा? बस इसलिए उसने 10 साल की बेटी को नशीला पदार्थ पिलाकर मार डाला। शव को उसने नदी में फेंक दिया। मार्च 2021 के इस हत्याकांड ने पूरे केरल को हिला दिया था।वफ़ा और जफ़ा से इतर भी जिंदगी है। बेवफाई के शक की बुनियाद पर उसी की जान ले लेना जिस पर कभी जान छिड़कते थे, अपने आप में मोहब्बत पर बदनुमा दाग लगाने जैसा है। जब आपका ईगो आपकी ममता और आपके वात्सल्य पर भारी पड़ जाए और मां अपने ही जिगर के टुकड़े की कातिल बन जाए तो ये चेतने का वक्त है! हमें सोचने की जरूरत है कि आखिर हम ये आ कहां गए हैं जहां नए सिरे से जिंदगी की शुरुआत के चक्कर में एक पिता अपनी ही बिटिया को बेरहमी से मार डालता है। आखिर रिश्तों को ये हो क्या गया है?