प्याज, मुर्गा, सरसों तेल… पाकिस्तान में चिकन खाना हुआ सपना! रेट लिस्ट देख चकरा जाएगा माथा

इस्लामाबाद: पाकिस्तान इन दिनों कंगाली से गुजर रहा है। हालात इतने गंभीर हैं कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के साथ सेना प्रमुख असीम मुनीर को भी झोली फैलाने के लिए विदेशों का दौरा करना पड़ रहा है। इस बीच पाकिस्तान में बढ़ती महंगाई ने आम लोगों की कमर तोड़कर रख दी है। सिर्फ आटा और गैस ही नहीं, बल्कि चिकन के दाम भी आसमान पर पहुंच गए हैं। ऐसे में पाकिस्तानियों के लिए पसंदीदा व्यंजन चिकन बिरयानी अब सपना बनता दिख रहा है। चिकन बनाने में इस्तेमाल होने वाला सरसों का तेल और प्याज की कीमतें आपको हैरान करने के लिए काफी है। इसके बावजूद पाकिस्तानी राजनेता अवाम को महंगाई से उबारने की जगह शेखी बघारने और भारत के खिलाफ बयानबाजी करने से बाज नहीं आ रहे।

पाकिस्तान में चिकन, प्याज और तेल के दाम तो जानें

पाकिस्तान में चिकन की कीमत वर्तमान में 383 रुपये प्रति किलो है। पिछले साल यानी जनवरी 2022 में चिकन की कीमत 210 रुपये थी। ऐसे में सिर्फ एक साल में चिकन के दाम में 173 रुपये की वृद्धि हो चुकी है। इतना ही नहीं, चिकन बनाने में इस्तेमाल होने वाले प्याज और सरसों के तेल की कीमत में भी आग लगी हुई है। पाकिस्तान में वर्तमान में प्याज 220 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। एक साल पहले जनवरी 2022 में प्याज 36 रुपये प्रति किलो मिल जाता था। ऐसे में प्याज में एक साल के अंदर 184 रुपये की वृद्धि हुई है। सरसों का तेल पाकिस्तान में 532 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है, जो पिछले साल जनवरी 2022 में 374 रुपये था। ऐसे में सरसों का तेल 2022 के मुकाबले 158 रुपये महंगा हो गया है।

दाल, नमक, चावल, केला, ब्रेड, दूध भी हुए महंगे

पाकिस्तान में दाल, नमक, चावल, केला, ब्रेड, दूध भी आम लोगों के पहुंच से बाहर हो चुके हैं। पाकिस्तान में 1 किलो तुअर दाल 228 रुपये किलो, साधारण नमक के 800 ग्राम का पैकेट 48 रुपये, बासमती चावल 146 रुपये, केला 119 रुपये प्रति दर्जन, ब्रेड का एक पैकेट 89 और 1 लीटर दूध 149 रुपये का मिल रहा है। ऐसे में पाकिस्तान में इन चीजों को खरीदना आम लोगों के ताकत से बाहर हो चुका है। पाकिस्तान की अधिकतर अवाम गरीबी रेखा के नीचे गुजर-बसर करती है। इस बीच अर्थव्यवस्था के चौपट होने से प्राइवेट नौकरी करने वाले लाखों लोगों को बेरोजगार होना पड़ा है।

पाकिस्तान में महंगाई की रेट लिस्ट देखें

सामान का नाम वर्तमान में मूल्य (पाकिस्तानी रुपया) जनवरी 2022 में मूल्य (पाकिस्तानी रुपया) बदलाव का प्रतिशत
चिकन 383 (प्रति किलो) 210 82%
प्याज 220 (प्रति किलो) 36 500%
सरसों का तेल 532 (प्रति लीटर) 374 42%
दाल 228 (प्रति किलो) 150 51%
चावल (बासमती) 146 (प्रति किलो) 100 46%
केला 119 (प्रति दर्जन) 82 45%
नमक 49 ( 800 ग्राम का पैकेट) 32 49%
ब्रेड 89 (प्रति पैकेट) 65 36%
दूध 149 (प्रति लीटर) 114 30%

आंकड़े बता रहे पाकिस्तान के बर्बादी की कहानी

पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के अनुसार, देश की अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति दिसंबर 2021 में 12.3 प्रतिशत से दोगुनी होकर दिसंबर 2022 में 24.5 प्रतिशत हो गई है। मुद्रास्फीति का मुख्य कारण खाद्य पदार्थों की कीमतों में जबरदस्त उछाल को माना जा रहा है। वहीं, खाद्य मुद्रास्फीति की दर दिसंबर 2021 में 11.7 प्रतिशत से लगभग तीन गुना बढ़कर दिसंबर 2022 में 32.7 प्रतिशत हो गई है। पाकिस्तान में सिर्फ महंगाई ही समस्या नहीं है, बल्कि उसकी अर्थव्यवस्था भी बर्बाद होती नजर आ रही है। पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से खाली हो रहा है। पिछले एक साल में यह आधे से भी कम हो गया है। दिसंबर 2021 में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 23.9 बिलियन अमरीकी डॉलर था और दिसंबर 2022 में घटकर 11.4 बिलियन अमरीकी डॉलर रह गया है।