Olympic Games 2036: भारत के ओलंपिक मेजबान बनने की राह हुई आसान, मैक्सिको ने वापस लिया नाम, जानें पूरी डिटेल

ओलंपिक 2036 को लेकर भारत के लिए अच्छी खबर है। दरअसल, ओलंपिक 2036 के लिए भारत की मेजबानी का रास्ता साफ होता जा रहा है। अब मैक्सिको ने आधिकारिक तौर पर ओलंपिक 2036 की मेजबानी से नाम वापस ले लिया है। कड़ी प्रतिस्पर्धा का हवाला देते हुए मैक्सिको ने मेजबानी से अपना नाम वापस ले लिया है। मंगलवार को प्रायोजकों के एक कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने इसकी जानकारी दी। सीओएम की अध्यक्ष मारिया जोस अल्काला ने  कहा कि अब मैक्सिको अपना ध्यान युवा ओलंपिक खेलों के लिए बोली लगाने पर केंद्रित करेगा, जहां उसके पास बेहतर मौका है।मैक्सिको ने शुरुआत में अक्टूबर 2022 में खेलों के इस महाकुंभ की मेजबानी करने का इरादा जताया था। पूर्व विदेश मंत्री मार्सेलो एबरार्ड ने सीओएम के साथ मिलकर 2036 ओलंपिक की मेजबानी करने की इच्छा जताई थी। ये देश 1968 में  सफलतापूर्वक ओलंपिक खेलों की मेजबानी कर चुका है और एक बार ग्रीष्मकालीन खेलों को अपनी धरती मं आयोजित करना चाहता था। साउथ कोरिया, भारत, मिस्त्र और कतर सहित अन्य देशों से कड़ी प्रतिस्पर्धा को स्वीकार करते हुए अल्काला ने खुलासा किया कि मैक्सिको अब अपना ध्यान युवा ओलंपिक खेलों के लिए बोली लगाने पर केंद्रित करेगा। साउथ कोरिया, मिस्त्र और कतर जैसे देश अभी भी ओलंपिक 2036 की मेजबानी में रुचि दिखा रहे हैं। कतर ने 20222 फीफा वर्ल्ड कप का सफल आयोजन किया था। साउथ कोरिया और मिस्त्र में भी बड़े खेलों के आयोजन के लिए क्षमता है। हालांकि, भारत पहली बार इन खेलों की मेजबानी के लिए दावेदार पेश कर रहा है। भारत को इसका फायदा मिल सकता है।