अब तो दर्शन दुर्लभ हो गए… क्या बंद हो सकती है यह बड़ी करेंसी? संसद में आज मिल गया इशारा

नई दिल्ली: 2016 की नोटबंदी के बाद जब 2000 रुपये के गुलाबी नोट चलन में आए तो विपक्ष ने कई तरह के सवाल खड़े किए थे। काले धन पर रोक कैसे लगेगी, ऐसे सवाल खूब उछले थे। लेकिन अब भाजपा के ही सांसद ने कहा है कि कि इसके जरिए ब्लैक मार्केटिंग हो रही है। यह प्रीमियम पर मिल रहा है। टेरर फंडिंग, ड्रग्स सिंडिकेट और अपराध जगत में इस बड़ी करेंसी का ज्यादा इस्तेमाल हो रहा है। आज राज्यसभा में 2000 के नोट का मुद्दा खुद बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भाजपा सांसद सुशील मोदी ने उठाया। बाहर आकर उन्होंने मीडिया से कहा कि आज सामान्य व्यापार में यह कहीं भी इस्तेमाल नहीं हो रहा है। तीन वर्षों से RBI ने भी प्रिंटिंग बंद कर दी है। एक और भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने संसद में बोलते हुए इशारों-इशारों में कह दिया कि सरकार कभी भी इसे बंद करने की घोषणा कर सकती है।

समय सीमा देकर मार्केट से वापस लेने की मांग
सुशील मोदी ने इसकी प्रासंगिकता समझाते हुए कहा कि नोटबंदी के बाद कम समय में नोटों की अदला-बदली हो सके इसलिए 2000 के नोट जारी किए गए थे। उन्होंने सरकार से मांग की है कि अब इस गुलाबी नोट को मार्केट से समाप्त कर दिया जाए। सुशील मोदी ने कहा कि ऐसी व्यवस्था की जाए कि जिन लोगों के पास 2000 के नोट हैं, वे निश्चित समयसीमा में उसे एक्सचेंज कर सकें और बाद में वह पूरी तरह से मार्केट से वापस हो जाए।

2000 के नोट का क्या औचित्य है?
सुशील मोदी ने आगे कहा कि दुनिया के जितने भी विकसित देश हैं अमेरिका, जापान, चीन… 100 से ज्यादा की करेंसी नहीं है। ऐसे में भारत में 2000 के नोट का क्या औचित्य है। जब हमने 1000 का नोट खत्म कर दिया तो 500 के बाद 2000 के नोट की अब आवश्यकता नहीं है। यह पूछे जाने पर कि एटीएम से 2000 के नोट निकले महीनों हो गए हैं, सुशील मोदी ने कहा कि लोगों ने जमा कर रखे हैं। उन्होंने कहा कि अगर 2 लाख रुपये रखना है तो छोटे से बैग में आसानी से रखा जाएगा, ब्लैक मनी का इस्तेमाल करने वाले लोगों के लिए 2000 के नोट को कहीं भी ले जाना आसान है इसलिए ब्लैक मनी के खिलाफ अभियान चला रही सरकार को यह प्रयोग करना चाहिए।

कभी भी घोषणा हो सकती है…
उधर, भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा में कहा कि आरबीआई ने प्रस्ताव रखा था कि अगर आतंकवाद, हथियार और ड्रग्स में इस्तेमाल होने वाले पैसे और फेक करेंसी को खत्म करना है तो उसका रास्ता नोटबंदी है। अगर मोदी सरकार ने नोटबंदी की तो कौन सा गलत काम कर दिया? उन्होंने कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि क्या आपको नहीं लगता है कि देशविरोधी गतिविधियों में लिप्त आईएसआई और पीएफआई जैसे संगठनों और टुकड़े-टुकड़े गैंग की एक्टिविटी आज कम हो गई है। आपको उसके लिए बधाई देनी चाहिए।

निशिकांत दुबे ने आगे संभावना जताते हुए कहा कि 2000 का नोट री-मोनेटाइज हो रहा है। उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा, ‘2000 का नोट जो कांग्रेस ने बचाकर रखा है, उसे निकालकर ले आइए, नहीं तो एक दिन अगर घोषणा कर देंगे कि इस दिन से 2000 का नोट खत्म हो जाएगा तो आप लोग परेशानी में पड़ जाएंगे।’ भले ही भाजपा सांसद ने यह बात कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कही लेकिन इशारों में उन्होंने बड़ा संकेत भी दे दिया है।