नूंह हिंसा से मोनू मानेसर का नो कनेक्शन, मंत्री अनिल विज ने समझाया पूरा लॉजिक

चंडीगढ़: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि नूंह हिंसा की घटना का मोनू मानेसर से कोई लेना-देना नहीं है। यह विश्व हिंदू परिषद की यात्रा थी, जोकि हर साल निकलती है। विज ने कहा कि फिलहाल हालात पूरी तरह से काबू में हैं और हमें केंद्र से 20 कंपनियां मिली हैं। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से नूंह में दो अगस्त तक इंटरनेट की सेवा को बंद किया गया है और धारा 144 लागू है। दरअसल नूंह हिंसा की घटना के बाद यह कहा जा रहा था कि हो सकता है कि यह मामला मोनू मानेसर से जुड़ा हुआ हो, लेकिन इस बारे में हरियाणा के गृह मंत्री विज ने साफ कह दिया है कि घटना का मानेसर से कोई लेना-लादना नहीं है। क्यों आया मोनू मानेसर का नाम ?मोनू मानेसर को नूंह की हिंसा से जोड़कर इसलिए देखा जा रहा है, क्योंकि ब्रजमंडल यात्रा के ठीक एक दिन पहले मानेसर ने इस बात का ऐलान किया था कि वह यात्रा में शामिल होने जा रहा है। मोनू मानेसर भरतपुर के जुनैद और नासिर हत्याकांड में आरोपी है। माना जा रहा था कि मोनू के मेवात आने की खबर से ही दोनों पक्षों में भावनाएं भड़क उठी थीं। इसके बाद दोनों पक्ष यात्रा के दौरान आमने-सामने आ गए। हालांकि गृह मंत्री अनिल विज ने इस वजह को पूरी तरीके से खारिज कर दिया है। सीएम खट्टर के साथ मीटिंगहरियाणा के नूंह जिले में हुई हिंसा को लेकर 1 बजे मुख्यमंत्री आवास संत कबीर कुटीर पर बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में गृह मंत्री अनिल विज के साथ प्रदेश के मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक समेत तमाम प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद हैं। माना जा रहा है कि इस दौरान हरियाणा में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने को लेकर चर्चा के साथ ही उपद्रवियों के बारे में कार्रवाई पर बात की जाएगी।