केरल के चर्चित डॉ वंदना दास हत्याकांड की CBI जांच नहीं, हाईकोर्ट ने खारिज की माता-पिता की याचिका

कोच्चि (केरल): ने पिछले साल मई में कोल्लम जिले के एक तालुक अस्पताल में एक मरीज की ओर से डॉ वंदना दास की हत्या किए जाने के मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने का अनुरोध करने वाली याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। जस्टिस बेचू कुरियन थॉमस ने डॉक्टर के पिता की ओर से दायर यचिका खारिज कर दी। याचिका में आरोप लगाया गया था कि पुलिस ने अपना पल्ला झाड़ने की जल्दबाजी में प्राथमिक बयान में छेड़छाड़ की। याचिका खारिज करने की वजह बताने वाला डिटेल आदेश अभी अदालत से प्राप्त नहीं हुआ है।डॉ वंदना दास के पिता के जी मोहनदास ने अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि कोट्टारक्करा पुलिस ने अपना पल्ला झाड़ने की जल्दबाजी में मृतका के मित्र की ओर से कथित तौर पर दिए शुरुआती बयान में छेड़छाड़ की। याचिका में यह भी कहा गया है कि पुलिस अपनी सुरक्षा खामियों को छिपाने के लिए इस अपराध की बहुत उदासीन तरीके से जांच कर रही है।पिछले साल की थी हत्या डॉक्टर दास की पिछले साल मई में कोल्लम जिले के एक तालुक अस्पताल में एक मरीज जी संदीप ने हत्या कर दी थी जो पेशे से एक स्कूल शिक्षक है। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान थीं।सर्जिकल कैंची से किया था वारपुलिस संदीप को इलाज के लिए अस्पताल लाई थी तभी 10 मई की सुबह उसने पैर की चोट के इलाज के दौरान शुरुआत में सर्जिकल कैंची से पुलिस अधिकारियों और एक व्यक्ति पर हमला किया और फिर डॉ. दास पर हमला कर दिया। उसने डॉ. दास पर कैंची से कई वार किए। डॉ. दास को इलाज के लिए तिरुवनंतपुरम के एक निजी अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी मौत हो गयी।