जनरल बाजवा को गले लगाने वाले नवजोत सिद्धू फिर आज पाकिस्‍तान में, इसलिए जा रहे, 3 बजे देंगे बड़ा संदेश?

इस्लामाबाद: भारत की क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर पाकिस्तान जाने वाले हैं। बुधवार को वह करतारपुर कॉरिडोर के जरिए गुरुद्वारा दरबार साहिब जाएंगे। इस गलियारे के जरिए भारतीय बिना वीजा पाकिस्तान में जाते हैं। यह पाकिस्तान में मौजूद गुरुद्वारे को भारतीय पंजाब के गुरदासपुर जिले के गुरुद्वारा डेरा बाबा नानक से जोड़ता है। सिद्धू ने अपनी यात्रा के बारे में ट्वीट कर जानकारी दी। हालांकि जब 2018 में वह पाकिस्तान गए थे तो एक विवाद खड़ा हो गया था।दरअसल 2018 में पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में सिद्धू पाकिस्तान गए थे। तब वह पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। यहां उन्होंने पाकिस्तान के तत्कालीन आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से सार्वजनिक तौर पर मुलाकात की थी। इस दौरान सिद्धू ने बाजवा को गले लगा लिया था। उनके गले लगने के बाद भारत में सिद्धू का विरोध हो रहा था। अपनी ही पार्टी में सिद्धू तब घिर गए थे।क्यों हो रहा था विरोधलोगों का विरोध था कि पाकिस्तान की ओर से बॉर्डर पर तनाव के कारण भारतीय जवान शहीद हो रहे हैं। ऐसे में सिद्धू का पाकिस्तानी आर्मी चीफ से गले मिलना गलत है। पंजाब में तत्कालीन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी उनके गले मिलने से खुश नहीं थे। उन्होंने कहा था, ‘हर रोज हमारे जवान शहीद हो रहे हैं। ऐसे में उनके जनरल बाजवा को गले लगाने के मैं खिलाफ हूं। यह कहना कि वह जनरल बाजवा को नहीं जानते यह गलत है, क्योंकि यह उनकी वर्दी पर लिखा है।’सिद्धू ने उठाया था कॉरिडोर का मुद्दाहालांकि सिद्धू की पाकिस्तान यात्रा पर एक पक्ष उनकी डेरा बाबा नानक-करतारपुर कॉरिडोर का मुद्दा उठाने का समर्थन कर रहा था। साल 2019 में करतारपुर कॉरिडोर को खोल दिया गया। बुधवार को पाकिस्तान जाने से पहले सिद्धू ने कहा, ‘कल 24 जनवरी बुधवार को करतारपुर साहिब का दौरा करूंगा। मुझे अपनी सद्भावना का साधन बनाने के लिए महान गुरु का अभारी हूं। शांति सार्वभौमिक भाईचारे और सरबत का भला उनके संदेश का प्रचार जारी रखूंगा। 3 बजे भारत में मीडिया को संबोधित करूंगा।’