नाराओका और ताइ जू सेमीफाइनल में, आन से यंग चोट के कारण मुकाबले से हटीं

जापान के विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता कोडाई नाराओका और तोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता चीनी ताइपे की ताइ जू यिंग ने विपरीत अंदाज में जीत दर्ज करते हुए शुक्रवार को यहां इंडिया ओपन सुपर 750 बैडमिंटन टूर्नामेंट के क्रमश: पुरुष और महिला एकल सेमीफाइनल में जगह सुनिश्चित की लेकिन दक्षिण कोरिया की विश्व चैंपियन आन से यंग चोट के कारण क्वार्टर फाइनल मुकाबले के बीच से हट गईं।
दूसरे वरीय नाराओका ने मलेशिया के ली जी जिया के खिलाफ पहले गेम गंवाने के बाद वापसी करते हुए तीन गेम में 13-21, 21-9, 21-16 से जीत दर्ज की।
नाराओका सेमीफाइनल में हांगकांग के दुनिया के 18वें नंबर के खिलाड़ी ली च्युक यीयू से भिड़ेंगे जिन्होंने उलटफेर करते हुए बेहद कड़े मुकाबले में ओलंपिक कांस्य पदक विजेता और चौथे वरीय इंडोनेशिया के एंथोनी सिनिसुका गिनटिंग को एक घंटे और पांच मिनट में 21-17, 18-21, 21-13 से हराया।
दुनिया की पूर्व नंबर एक खिलाड़ी और चौथी वरीय ताइ जू को एशियाई खेलों की कांस्य पदक विजेता छठी वरीय चीन की ही बिंग जियाओ को 36 मिनट में 21-12, 21-12 से हराने के दौरान अधिक पसीना नहीं बहाना पड़ा।
गत चैंपियन और दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी आन से यंग क्वार्टर फाइनल में जब सिंगापुर की यिओ जिया मिन के खिलाफ 19-21, 0-3 से पीछे थी तो उन्होंने चोट के कारण मुकाबले से हटने का फैसला किया।
आन से यंग पिछले कुछ समय से घुटने की चोट से परेशान हैं और वह इस चोट से पूरी तरह से उबरकर फिटनेस के शीर्ष स्तर पर नहीं पहुंची हैं। दक्षिण कोरिया की यह खिलाड़ी इंडिया ओपन में घुटने पर काफी पट्टी बांधकर खेल रही थी। पूर्व चैंपियन रत्चानोक इंतानोन और बेइवैन झैंग के खिलाफ शुरुआती दो दौर में तीन गेम में जीत के दौरान उन्होंने स्वीकार किया था कि उन्हें थोड़ी दिक्कत हो रही है।
आन से यंग ने मैच के बाद कहा, ‘‘मैं चाहती थी कि मैं मुकाबले खेलूं। मैंने सोचा था कि चोट बढ़ सकती है लेकिन मुझे मैच खेलने थे। यह वही चोट है जो मुझे एशियाई खेलों (घुटने की चोट) के दौरान लगी थी। मैंने एक हफ्ते पहले ही दौड़ना शुरू किया था। यहां मुझे शुरुआती दो दौर में काफी दौड़ना पड़ा जिसके कारण मेरे लिए खेलना जारी रखना मुश्किल हो गया।’’
राष्ट्रमंडल खेलों की कांस्य पदक विजेता जिया मिन ने कहा, ‘‘मुझे पता था कि मुझे कोर्ट पर तेजी दिखानी होगी और गलतियां कम करनी होंगी। मैंने मानसिक रूप से मजबूत होने और एकाग्रता नहीं खोने पर ध्यान दिया। मैंने पहला गेम जीता लेकिन मुझे नहीं पता कि वह (आन से यंग) शारीरिक रूप से अपनी सर्वश्रेष्ठ स्थिति में थी या नहीं। उम्मीद करती हूं कि वह आगामी टूर्नामेंट में शत प्रतिशत फिट होकर वापसी करेगी।’’
रविवार को होने वाले फाइनल में जगह बनाने के लिए दुनिया की तीसरे नंबर की खिलाड़ी ताइ जू की भिड़ंत शनिवार को दुनिया की 20वें नंबर की खिलाड़ी जिया मिन से होगी। महिला एकल के अन्य मुकाबलों में चीन की झी यी वैंग और उनकी हमवतन चेन यू फेई भी जीत दर्ज करने में सफल रही। वैंग ने थाईलैंड की बुसानन ओंगबामरुंगफान को सीधे गेम में 22-20, 21-8 से हराया जबकि ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता यू फेई ने जापान की अनुभवी नोजोमी ओकुहारा को 21-9, 21-13 से हराया। सेमीफाइनल में वैंग और यू फेई आमने-सामने होंगे।