MP में अब 52 नहीं होंगे 53 जिले, मऊगंज बना नया जिला; शिवराज ने किया ऐलान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को रीवा जिले की तहसील मऊगंज को प्रदेश का 53वां जिला बनाने की घोषणा की. मध्य प्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और सत्तारूढ़ बीजेपी इसे जीतने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है. राजनीतिक पर्यवेक्षकों ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य प्रदेश मंत्रिमंडल में राजनीतिक रूप से अहम विंध्य क्षेत्र के लिए पर्याप्त प्रतिनिधित्व की कमी को लेकर सरकार के खिलाफ असंतोष को खत्म करना है.
बता दें, मऊगंज को जिला बनाने की लंबे समय से चली आ रही मांग ने हाल ही में जोर पकड़ लिया था. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने यहां एक समारोह में संबल योजना के तहत 27,310 हितग्राहियों के बैंक खातों में सहायता के रूप में 605 करोड़ रुपए की राशि स्थानांतरित की. इस मौके पर उन्होंने कहा, 15 अगस्त को नवीन मऊगंज जिला (मुख्यालय) में राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा. इसके अलावा सीएम शिवराज सिंह चौहान ने 738 करोड़ रुपए से अधिक की परियोजनाओं का शिलान्यास किया, जिनमें से कई मऊगंज में हैं.
ये भी पढ़ें- पूर्व कर्मचारी को गाली देना पड़ा महंगा, लोहे की रॉड से हमला कर कारोबारी को मार दिया
कमलनाथ पर सीएम शिवराज ने साधा निशाना
अधिकारिक सूत्रों ने कहा कि नई परियोजनाओं में 73.56 करोड़ रुपए के 10 कार्य नए जिले में किए जाएंगे. सीएम शिवराज सिंरह चौहान ने मुख्य रूप से असंगठित मजदूरों की जरूरतों को पूरा करने वाली संबल योजना की खूबियों को गिनाते हुए कहा कि यह योजना जन्म से लेकर मृत्यु तक सहायता प्रदान करती है. पूर्ववर्ती कांग्रेस की कमलनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ ने दिसंबर 2018 से मार्च 2020 तक मुख्यमंत्री के रूप में अपने 15 महीने के कार्यकाल के दौरान इस योजना को छोड़ दिया था.
ये भी पढ़ें- निकाह के 8 साल बाद दहेज में मांग रहा था 2 करोड़, नहीं मिले तो फोन पर दिया तीन तलाक
मऊगंज जिले में होंगी ये चार तहसीलें
सूत्रों ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे नए मऊगंज जिले में चार तहसीलें होंगी- मऊगंज, हनुमना, नईगढ़ी और देवतालाब और इसकी आबादी छह लाख से अधिक है. नए जिले के निर्माण के साथ वर्तमान में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के दो विधानसभा क्षेत्र मऊगंज चले गए हैं. अब रीवा जिले में छह विधानसभा सीट रह गई हैं. रीवा संभाग में अब रीवा, मऊगंज, सतना, सीधी और सिंगरौली पांच जिले होंगे, जबकि विंध्य क्षेत्र में जिलों की संख्या आठ होगी.
ये भी पढ़ें- MP का बदहाल स्कूल, न पीने का पानी, न बैठने की जगह; जर्जर इमारत में पढ़ रहे बच्चे
लंबे समय से चल रही थी मऊगंज को जिला बनाने की मांग
वरिष्ठ पत्रकार राजेश द्विवेदी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि, लोग लंबे समय से मऊगंज को जिला बनाने की मांग कर रहे थे. अब लोग सतना में मैहर को नया जिला बनाने की मांग करेंगे. इस मांग को लेकर मैहर में स्थानीय भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी के नेतृत्व में कई विरोध प्रदर्शन हुए हैं. द्विवेदी ने कहा कि चुनाव से पहले मऊगंज को जिला बनाने से भाजपा को बहुत अधिक राजनीतिक लाभ नहीं होगा. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र से केवल रामखेलावन पटेल ही मंत्रिमंडल में प्रतिनिधित्व कर रहे थे, लेकिन अलग विंध्य प्रदेश की मांग जोर पकड़ने के बाद गिरीश गौतम को मप्र विधानसभा का अध्यक्ष बनाया गया.
(भाषा के इनपुट के साथ)