MP: जमीन कब्जाना चाहता है MLA, गुंडे देते हैं धमकी- अफसरों के सामने बुजुर्ग का छलका दर्द

बुरहानपुर: मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में विधायक ठाकुर सुरेंद्र सिंह पर एक सेवानिवृत्त प्रोफेसर ने संगीन आरोप लगाए हैं. सेवानिवृत्त प्रोफेसर शेख मोहम्मद ने विधायक पर डरा धमकाकर पुश्तैनी जमीन पर कब्जा करने का आरोप लगाया है. वहीं, शेख मोहम्मद की उम्र 75 वर्ष बताई जा रही है. मामला बुरहानपुर के नागझिरी का है. शेख मोहम्मद ने जनसुनवाई में अपनी पीड़ा अधिकारियों को बताई है.
बताया जा रहा है कि शेख मोहम्मद की पुश्तैनी जमीन फतेहपुर में स्थित है. शेख मोहम्मद के अनुसार, वर्षों से कृषि भूमि पर अपनी खेती करते आ रहे हैं, लेकिन परिवार में आपसी सामंजस्य नहीं होने के चलते प्रोफेसर के भाई के परिवार ने यह जमीन निर्दलीय विधायक ठाकुर सुरेंद्र सिंह उर्फ शेरा भैया की पत्नी जय श्री ठाकुर को बेच दी. जिसके बाद वहां पर विवाद की स्थिति बनी रही. मामला सिविल कोर्ट में विचाराधीन चल रहा है.
अधिकारियों के सामने बुजुर्ग का दर्द छलका
शेख मोहम्मद ने तहसीलदार मुकेश काशिव को रोते-रोते बताया है कि विधायक ठाकुर सुरेंद्र सिंह हमारी फतेहपुर में स्थित पुश्तैनी जमीन हथियाना चाहते हैं और और मुझ पर दबाव भी बना रहे हैं. उन्होंने बताया कि कुछ दिन पूर्व निर्दलीय विधायक के गुंडे मेरे खेत पर पहुंचते हैं और काफी उत्पात मचाते हुए मुझे डराते धमकाते हुए कहते हैं कि जमीन खाली कर दो, नहीं तो कुछ भी हो सकता है.
थाने में की शिकायत पर नहीं हुई सुनवाई
शेख मोहम्मद ने बताया कि इसकी शिकायत मैंने निंबोला थाने पर की, लेकिन आज तक इस पूरे मामले में कोई सुनने वाला नहीं है. अब मैं परेशान हो चुका हूं और मुझे और मेरे परिवार को जान का खतरा भी है. प्रशासन से निवेदन है कि मुझे पुलिस प्रोटेक्शन दिया जाए अगर मेरी सुनवाई नहीं होती है तो मैं आत्मदाह कर लूंगा.
ये भी पढ़ें:आपके यहां होली हो गई क्या? यहां तो 7 दिन तक चलेगी पढ़ें क्रांतिकारी कनेक्शन की कहानी
प्रोफेसर ने बताया कि अपनी विधायकी का प्रभाव और दबाव बताते हुए उन्होंने मुझ पर एसटी एससी एक्ट में झूठा प्रकरण भी दर्ज करवाने की कई बार कोशिश की. एक प्रकरण 107 116 का निर्दलीय विधायक की पत्नी द्वारा मुझ पर दर्ज करवा दिया है जो कि एसडीएम कोर्ट में चल रहा है. इसी तरह दो और झूठे प्रकरणों में मुझे फसाकर इन्होंने प्रकरण दर्ज कर लिया, जिसमें कि मुझे जमानत मिल गई है मुझे पुलिस प्रोटेक्शन और न्याय नहीं मिलता है तो मैं आत्मदाह कर लूंगा.
वहीं, इस पूरे मामले पर तहसीलदार मुकेश काशिव पूरी तरह से मीडिया के सवालों से बचते हुए नजर आए. उन्होंने कहा कि मामला सिविल न्यायालय में विचाराधीन है. इस पर आगे कुछ नहीं कहा जा सकता पर बड़ा सवाल यह उठता है कि निर्दलीय विधायक द्वारा डराने धमकाने की शिकायत पीड़ित प्रोफेसर और उसके परिवार द्वारा की जा रही है ऐसे में पीड़ित प्रोफ़ेसर को पुलिस की सुरक्षा तो मिलना ही चाहिए.
ये भी पढ़ें:दोस्तों ने उड़ेल दिया बाल्टी भर पानी, भीग गया जेब में पड़ा स्मार्टफोन; ऐसे करें ठीक