‘जहरीली शराब से 200 से ज्यादा मौत, दबाया जा रहा सच’, नीतीश पर अटैक के लिए चिराग पासवान लाए नया डेटा

छपरा: बिहार के छपरा में हुई जहरीली शराब से मौत के मामलों में लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के नेता ने शनिवार को बड़ा बयान दिया है। चिराग पासवान, सीएम नीतीश पर हमला बोलने के लिए नया डेटा लेकर आए। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि शराब कांड में करीब 200 से ज्यादा लोगों की मृत्यु हुई है। लेकिन यह सच दबाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शराब पीने से जिन लोगों की मौत हुई है, उनका पोस्टमार्टम किए बिना ही अंतिम संस्कार करवाया गया। मृतकों के परिवार पर दवाब डाला जा रहा है। उनसे कहा जा रहा है कि मत बोलो कि शराब से मृत्यु हुई है, नहीं तो जेल भेज देंगे।

जमुई सांसद चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री पर हमला बोलते हुए कहा कि इस मुद्दे पर CM नीतीश कुमार की खामोशी भ्रष्ट अधिकारियों को समर्थन होना दर्शाती है। उन्होंने कहा कि इस मामले में सीधे तौर पर बिहार सरकार दोषी है। नीतीश सरकार इस मामले की जांच नहीं कर सकती है। इसलिए इस मामले की जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिए। वहीं नीतीश कुमार के पियोगे तो मरोगे वाले बयान पर चिराग पासवा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की संवेदना मर चुकी हैं। उनका ध्यान सिर्फ अपनी कुर्सी पर रहता है।

चिराग से गले लगकर फूट-फूटकर रोने लगे लोग

दरअसल, चिराग पासवान शनिवार को शराब कांड के मृतकों के परिजनों से मिलने छपरा के मशरक पहुंचे थे। इस दौरान माहौल बड़ा भावुक हो गया। परिजन चिराग के गले लगकर फूट-फूटकर रोने लगे। चिराग ने उन्हें सांत्वना देते हुए बिहार सरकार से मृतकों के परिजन को उचित मुआवाजा देने की मांग की।

पशुपति पारस ने की बिहार में राष्ट्रपति शासन की मांग

इधर चिराग के चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति नाथ पारस ने छपरा में जहरीली शराब से हुई मौत को लेकर बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर दी। लोक जनशक्ति पार्टी (राष्ट्रीय) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री पशुपति नाथ पारस अपने पार्टी के नेताओं के साथ ज्ञापन सौंपने राज्यपाल के पास पहुंचे। राज्यपाल से मुलाकात कर बाहर निकले केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस, सांसद प्रिंस कुमार ने मीडिया से बातचीत में कहा कि ये सरकार गरीब विरोधी मानसिकता वाली सरकार है। पशुपति पारस ने छपरा में जहरीली शराब से हुई मौत का जिम्मेदार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, चीफ सेक्रेटरी और बिहार के डीजीपी को बताया। उन्होंने कहा कि इनलोगों पर मुकदमा दर्ज होना चाहिए