संसद का मॉनसून सत्र आज से, मणिपुर के ताजा वीडियो पर देश शर्मसार! कई विपक्षी सांसदों ने दिए कार्य स्थगन प्रस्ताव

संसद का मॉनसून सत्र आज से शुरू हो रहा है। सदन में आज हंगामे के आसार हैं। मणिपुर हिंसा पर कई विपक्षी सांसदों ने कार्य स्थगन प्रस्ताव दिए हैं। मणिपुर से दो महिलाओं को नग्न कर परेड कराने का शर्मसार करने वाला एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो पर हंगामा खड़ा हो गया है। देशभर से इस पर प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। सरकार से सवाल पूछे जा रहे हैं। इस बीच विपक्षी सांसदों ने सरकार से जवाब देने की मांग की है। पीएम मोदी से इस पर बयान देने की मांग की जा रही है। जब से मणिपुर में हिंसा शुरू हुई है, पीएम मोदी ने इस पर एक शब्द भी नहीं बोला है।मणिपुर हिंसा पर विपक्षी सांसदों ने दिए कार्य स्थगन प्रस्तावशिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि कल देश के सामने मणिपुर से दो महिलाओं के साथ जघन्य अपराध का वीडियो आया। ऐसी घटना देश को शर्मसार करती है। एक महिला सांसद होने के नाते मैं मणिपुर पर चर्चा चाहती हूं। पीएम को अपनी चुप्पी तोड़नी चाहिए और सदन में बोलकर लोगों को जवाब देना चाहिए। महिला एवं बाल कल्याण विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कभी इस पर बात नहीं की, लेकिन अब जब उन पर दबाव है तो वह कहती हैं कि उन्होंने सीएम से बात की। देश की सबसे अक्षम मंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए। आज संसद में यह पहला मुद्दा होगा।कांग्रेस के लोकसभा सांसद मनीष तिवारी ने मणिपुर में चल रहे जातीय संघर्ष पर चर्चा के लिए स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है। एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मणिपुर हिंसा पर चर्चा के लिए लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया है। इनके अलावा आरजेडी सांसद मनोज झा ने मणिपुर की स्थिति पर चर्चा के लिए नियम 267 के तहत राज्यसभा में सस्पेंशन ऑफ बिजनेस नोटिस दिया।मोदी जी, देश आपकी चुप्पी को कभी माफ नहीं करेगा: खड़गेमणिपुर से आए जाता वीडियो पर कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “मणिपुर में मानवता मर गई है। मोदी सरकार और बीजेपी ने राज्य के नाजुक सामाजिक ताने-बाने को नष्ट करके लोकतंत्र और कानून के शासन को भीड़तंत्र में बदल दिया है। नरेंद्र मोदी जी, देश आपकी चुप्पी को कभी माफ नहीं करेगा।”खड़गे ने आगे लिखा, यदि आपकी सरकार में ज़रा भी विवेक या शर्म बची है, तो आपको संसद में मणिपुर के बारे में बोलना चाहिए और केंद्र और राज्य दोनों में अपनी दोहरी अक्षमता के लिए दूसरों को दोष दिए बिना, देश को बताना चाहिए कि क्या हुआ। आपने अपनी संवैधानिक ज़िम्मेदारी छोड़ दी है। संकट की इस घड़ी में हम मणिपुर के लोगों के साथ खड़े हैं।मणिपुर में दो महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाया गयामणिपुर में हालात लगातार बिगड़े जा रहे हैं। पूर्वोत्तर राज्य से शर्मसार करने वाला वीडियो सामने आया है। 4 मई का का यह वीडियो है। इसमें एक समुदाय की दो महिलाओं को दूसरे पक्ष के कुछ लोग निर्वस्त्र कर सड़कों पर घुमा रहे हैं। इस घटना के सामने आने के बाद इलाके में तनाव फैल गया है। अधिकारियों ने बताया कि यह वीडियो इंडिजिनस ट्राइबल लीडर्स फोरम (ITLF) के गुरुवार को होने वाले प्रदर्शन से ठीक एक दिन पहले प्रसारित किया जा रहा था।मणिपुर में 3 मई को कुकी समुदाय की ओर से निकाले गए ‘आदिवासी एकता मार्च’ के दौरान हिंसा भड़की थी। इस दौरान कुकी और मैतेई समुदाय के बीच हिंसक झड़प हो गई थी. तब से ही वहां हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं।11 अगस्त तक चलेगा संसद का मॉनसून सत्रसंसद का मानसून सत्र 20 जुलाई यानी आज से शुरू होगा और 11 अगस्त तक चलेगा। 23 दिनों तक चलने वाले इस मानसून सत्र में कुल 17 बैठकें होंगी। मॉनसून सत्र के दौरान केंद्र सरकार डिजिटल पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल-2023 और दिल्ली सरकार के अधिकारों से जुड़े विधेयक सहित कई महत्वपूर्ण बिलों को संसद में पेश करने की तैयारी कर रही है। यह भी बताया जा रहा है कि सरकार समान नागरिक संहिता से जुड़े विधेयक को भी मॉनसून सत्र के दौरान सदन में पेश कर सकती है।