मोदी ने अटल सेतु को विकसित भारत का प्रतिबिंब बताया; युवा उत्सव में वंशवाद की राजनीति पर निशाना

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत का सबसे लंबा समुद्री पुल अटल सेतु बुनियादी ढांचा के क्षेत्र में देश की ताकत और विकसित भारत के प्रतिबिंब का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि बड़ी विकास परियोजनाओं में अब देरी नहीं हो रही है जबकि 2014 से पहले केवल ‘‘बड़े घोटाले’’ ही चर्चा का विषय बनते थे।
प्रधानमंत्री ने 17,840 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित अटल बिहारी वाजपेयी सेवारी-न्हावा शेवा अटल सेतु का उद्घाटन किया। दक्षिण मुंबई को नवी मुंबई में न्हावा-शेवा से जोड़ने वाला भारत का यह सबसे लंबा पुल होने के साथ देश का सबसे लंबा समुद्री पुल भी है।
छह लेन का ट्रांस-हार्बर पुल 21.8 किमी लंबा है और 16.5 किमी लंबा सी-लिंक है। इस पुल के बनने से मुंबई और नवी मुंबई आने जाने में घंटों के बजाये महज 15-20 मिनट का समय लगेगा। पुल की आधारशिला दिसंबर 2016 में प्रधानमंत्री मोदी ने रखी थी।
प्रधानमंत्री ने नवी मुंबई में एक कार्यक्रम में कहा कि जब उन्होंने इस परियोजना (तब इसे मुंबई ट्रांस-हार्बर लिंक या एमटीएचएल कहा जाता था) की आधारशिला रखी तो उन्होंने संकल्प लिया था कि देश में बदलाव आएगा। मोदी ने कहा कि कोविड-19 महामारी से बाधाओं के बावजूद पुल का निर्माण पूरा किया गया।
उन्होंने कहा, ‘‘(पूर्व में) लोग तंग आ चुके थे, जिस तरह बड़ी परियोजनाएं रुकी हुई थीं और उन्होंने उम्मीद छोड़ दी थी कि बड़ी परियोजनाएं कभी पूरी होंगी। लेकिन यह मोदी की गारंटी है कि देश बदलेगा।’’
मोदी ने कहा कि 2014 से पहले बड़े-बड़े घोटाले चर्चा का विषय हुआ करते थे। उन्होंने कहा कि लेकिन 10 साल बाद बड़ी परियोजनाओं के पूरा होने की बात हो रही है।
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘बीते 10 वर्षों में सपने सच हुए हैं। समुद्री पुल विकसित भारत का प्रतिबिंब है…यह भारत की ढांचागत शक्ति और एक विकसित राष्ट्र बनने की दिशा में आगे बढ़ने को दर्शाता है।’’
उन्होंने कहा कि आगामी परियोजनाएं नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, मुंबई में तटीय सड़क, मध्य महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र में एयूआरआईसी (औरंगाबाद औद्योगिक शहर), मुंबई-दिल्ली औद्योगिक गलियारा और मुंबई-अहमदबाद बुलेट ट्रेन आने वाले वर्षों में महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देंगी।
प्रधानमंत्री ने कहा कि अटल सेतु उनकी सरकार के ‘‘विकसित भारत संकल्प’’ का एक महत्वपूर्ण हिस्सा था। उन्होंने कहा कि न केवल देश बल्कि पूरी दुनिया की नजर ‘‘पुल पर थी।’’
उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार अपनी ‘लेक लड़की’ और ‘मुख्यमंत्री नारी शक्ति’ योजनाओं के साथ महिला कल्याण और सशक्तिकरण की ‘मोदी गारंटी’ को लागू कर रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मोदी की गारंटी तब शुरू होती है जब दूसरों से उम्मीदें खत्म हो जाती हैं।’’
महाराष्ट्र की अपनी एक दिवसीय यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री ने मुंबई क्षेत्र में 30,500 करोड़ रुपये से अधिक की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं की शुरुआत की, राष्ट्र को समर्पित किया और नासिक में 27वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का भी उद्घाटन किया।
उन्होंने उपनगरीय रेल गलियारे के विस्तार, रत्न और आभूषणों के लिए एक सुविधा केंद्र का उद्घाटन किया और दक्षिण मुंबई में एक सुरंग सड़क की आधारशिला रखी। नवी मुंबई के उल्वे में एक समारोह में मोदी ने 27 किलोमीटर लंबे बेलापुर-सीवुड्स-उरण उपनगरीय गलियारे के 14.60 किलोमीटर लंबे खारकोपर-उरण खंड का उद्घाटन किया।
इससे पहले, नासिक में 27वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के मौजूदा युवाओं को 21वीं सदी की सबसे सौभाग्यशाली पीढ़ी बताया, जो अमृत काल के दौरान देश को नयी ऊंचाइयों पर ले जाने को तैयार है। उन्होंने परिवारवादी राजनीति का प्रभाव घटाने के लिए उनसे चुनावी प्रक्रिया में भाग लेने का भी आग्रह किया।
मोदी ने कहा कि परिवारवादी राजनीति ने देश को काफी नुकसान पहुंचाया है और उन्होंने युवाओं से यथाशीघ्र मतदाता सूची में अपना नाम शामिल कराने का आग्रह किया। उन्होंने युवाओं को मादक पदार्थों से दूर रहने को भी कहा।
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘भारत लोकतंत्र की जननी है। यदि युवा मतदान कर अपने राजनीतिक विचार प्रकट करेंगे तो देश का भविष्य अच्छा होगा। लोकतांत्रिक प्रक्रिया में युवाओं की अधिक भागीदारी देश का बेहतर भविष्य सुनिश्चित करेगी।’’
उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप सक्रिय राजनीति (और चुनावी प्रक्रिया) में भाग लेते हैं, तो आप परिवारवादी राजनीति का प्रभाव घटा सकेंगे। आप जानते हैं कि परिवारवादी राजनीति ने देश को नुकसान पहुंचाया है।’’
प्रधानमंत्री ने युवाओं से स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने का आग्रह किया। उन्होंने युवाओं से मां-बहन-बेटियों के नाम अपशब्दों व गालियों का इस्तेमाल करने के चलन के खिलाफ आवाज उठाने की भी अपील की।
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘भारत शीर्ष पांच वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में शामिल है। यह अपनी प्रतिबद्धता और युवाओं की क्षमता के कारण शीर्ष तीन स्टार्ट-अप परिवेश वाले देशों की सूची में शामिल है।’’
उन्होंने अपने संबोधन के दौरान कहा कि भारत में सबसे सस्ता मोबाइल डाटा विश्व के लोगों को चौंका रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हमें भारत को सेवा और आईटी क्षेत्र की तरह विनिर्माण का केंद्र बनाना होगा।’’
मोदी ने कहा, ‘‘हमें विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनना है।’’ उन्होंने कहा कि विश्व आज भारत को कौशल प्राप्त कार्यबल वाले देश के रूप में देख रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं 21वीं सदी के युवाओं को सबसे सौभाग्यशाली पीढ़ी मानता हूं जो भारत को नयी ऊंचाइयों पर ले जाएंगे।’’
प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में रोजगार के नये अवसर हैं, नये स्टार्ट-अप आ रहे हैं, उभरता कौशल क्षेत्र तेजी से फल-फूल रहा और नयी आईआईटी (भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान) तथा एनआईटी (राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान) खोले जा रहे हैं। मोदी ने कहा, ‘‘ड्रोन क्षेत्र, एनिमेशन, गेमिंग, परमाणु क्षेत्र, बड़े राजमार्ग, आधुनिक हवाई अड्डे और वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन आपके लिए हैं…अब, देश विभिन्न क्षेत्रों में नेतृत्व कर रहा है और विश्व हमारी प्रगति देखकर चकित है–चाहे यह चंद्रयान, आदित्य एल1 मिशन हो या यूपीआई भुगतान योजना हो।’’
उन्होंने भगवान राम का नासिक से जुड़ाव का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘भगवान राम ने यहां पंचवटी में काफी समय व्यतीत किया था। मैं लोगों से अपील करता हूं कि 22 जनवरी को (अयोध्या में) राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह से पहले, सभी मंदिरों और तीर्थस्थलों पर स्वच्छता अभियान चलाएं।’’
नासिक की अपनी यात्रा के दौरान मोदी ने भगवान राम के प्रख्यात कालाराम मंदिर में पूजा-अर्चना की और भजन-कीर्तन में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने झांझ-मजीरे भी बजाए। उन्होंने शहर में एक रोड शो भी किया।