नीतीश कुमार को झटका देंगे मांझी? पूर्व सीएम के बयान से मची सियासी हलचल

पटना: हम पार्टी के प्रमुख और बिहार के पूर्व सीएम नीतीश कुमार को झटका देंगे? ये सवाल हम प्रमुख के बयान से उठ रहे हैं। पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में जिस तरह के बयान जीतन राम मांझी ने दिया है, उससे तो यही लग रहा है कि एक-दो दिन में जीतन राम मांझी बड़ा ऐलान कर सकते हैं। दो दिन पहले मांझी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। तब ही से कयास लगाया जा रहा था कि बिहार की सियासत में कुछ होने वाला है। हालांकि मांझी ने अटकलों पर पूर्ण विराम लगाते हुए उसी दिन कह दिया था कि को छोड़कर कहीं नहीं जाने वाले हैं। इन सब के बीच रविवार को जीतन राम मांझी ने ताजा बयान देकर बिहार की सियासत में हलचल मचा दी। जीतन राम मांझी ने कहा कि सचिन पायलट राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ अनशन कर सकते हैं, तो हम नीतीश कुमार के खिलाफ क्यों नहीं कर सकते हैं। जीतन राम मांझी ने कहा कि स्पष्टता उनकी मजबूरी रही है। हम बहुत दबाव में हैंजीतन राम मांझी ने आगे कहा कि महागठबंधन में हम बहुत दबाव में हैं। हालांकि मांझी ने किसी पार्टी का नाम नहीं लिया। बिना किसी पार्टी का नाम लिए जीतन राम मांझी ने कहा कि सब कह रहे हैं कि मेरे साथ आइये। ऐसे में हमलोगों को निर्णय लेना होगा। पूर्व सीएम ने कहा कि पूर्णिया की रैली में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोल चुके हैं कि हम ही सब कुछ आपको देंगे। अब निर्णय की घड़ी आ चुकी है।आंदोलन करने से पीछे नहीं हटेंगेजीतन राम मांझी ने कहा बिहार में गरीबों को पांच डिसमिल नहीं सिर्फ एक डिसमिल जमीन दी जा रही। 2014-15 में लिए निर्णय को जमीन पर लागू करना होगा। 2015 के 30 जून तक 5 एकड़ जमीन देने की बात हुई थी। सरकार जमीन खरीद कर देगी, ये भी फैसला हुआ था। अब उस मुद्दे को लेकर आंदोलन करना पड़े तो हम तैयार हैं। इंदिरा आवास में भ्रष्टाचार है। सीएम नीतीश कुमार जांच कराइये। कितने लोगों को आवास मिला, अगर इस मुद्दे पर आंदोलन करना पड़े तो इसमें कोई बुराई नहीं।जीतन राम मांझी ने आगे कहा कि दिल्ली में हमारी नीतीश कुमार से मुलाकात हुई। मैंने कहा हम आपके साथ हैं। मैंने बोला अपने मुझे धोखा दिया.. दो विभाग हमें मिलना था, लेकिन हमें एक मिला। पर्यटन और योजना विकास विभाग भी हमें दिया जा सकता था। उसके बाद भी हम उनके साथ हैं। पूर्व सीएम ने कहा कि ये निजी बातें हैं, लेकिन सामाजिक मुद्दों पर हम आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे।(अगर आप राजधानी पटना जिले से जुड़ी ताजा और गुणवत्तापूर्ण खबरें अपने वाट्सऐप पर पढ़ना चाहते हैं तो । )