Manipur Violence: मणिपुर में फंसे MP के 24 छात्रों को वापस लाएगी शिवराज सरकार, परिजनों ने कहा धन्यवाद

भोपाल: पूर्वोत्तर भारत के मणिपुर राज्य में पिछले दिनों हिंसात्मक घटनाएं देखने को मिली. राज्य के कई हिस्सों में धारा 144 लगा दी गई. हिंसात्मक घटनाओं में करीब 60 लोगों की मौत हो गई. इस बीच, मध्य प्रदेश के कई छात्र जो कि मणिपुर में पढ़ाई कर रहे हैं. मध्य प्रदेश के ये सभी निवासी मणिपुर से वापस अपने घर आना चाहते हैं. शिवराज सरकार द्वारा मणिपुर से इन छात्रों को वापस लाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है.
सीएम शिवराज सिंह चौहान के आदेश पर सरकार के आला अधिकारी मणिपुर में फंसे छात्रों को लाने की तैयारी में जुटे गए हैं. इस बात की जानकारी सरकार के जुड़े अधिकारियों ने दी है. सरकार के अधिकारियों ने बताया कि आवश्यक प्रक्रियायें पूरी कर ली गई हैं. अधिकारियों ने कहा कि सरकार द्वारा फिलहाल कुल 50 छात्र एवं लोगों की वापस लाने की व्यवस्था की गई है.
ये भी पढ़ें: मधुमक्खी से बचने के लिए शख्स ने अस्पताल से लगा दी छलांग, मौके पर ही मौत
इंफाल से गुवाहाटी फिर दिल्ली आएंगे छात्र
इस प्रक्रिया के तहत सबसे पहले छात्रों को हवाई मार्ग के माध्यम से मंगलवार दोपहर बाद मणिपुर की राजधानी इंफाल से पास के ही पड़ोसी राज्य गुवाहाटी लाया जाएगा. इसके बाद इन एमपी के छात्रों को गुवाहाटी से दूसरी प्लाईट से दिल्ली लाया जाएगा. एमपी सरकार दिल्ली में इन सभी समस्त छात्रों के रूकने एवं खाने की व्यवस्था मध्य प्रदेश भवन में की है.
24 छात्रों के अलावा और भी लोगों को ला सकती है शिवराज सरकार
दिल्ली से सभी छात्रों को हवाई मार्ग से ही उनके शहर भेजा जाएगा. इनमें से दिल्ली से ये उड़ाने भोपाल और इंदौर के लिए रहेंगी. सरकार अभी मणिपुर में फंसे 24 छात्रों की वापस लाएगी. सरकार ने कुल 50 लोगों के वापस लाने की व्यवस्था की है. मंगलवार दोपहर 12 बजे तक भी 24 छात्रों के अलावा सरकार और भी छात्रों व अन्य लोगों को साथ में ला सकती है. यदि किसी ने एमपी सरकार के अधिकारियों से संपर्क कर उन्हें लाने की मांग करती है.
परिवारजनों ने शिवराज सरकार को कहा धन्यवाद
बीते 4 दिनों से मणिपुर में फंसे छात्रों के परिजन परेशान हैं. लगातार सरकार से मांग कर रहे थे कि उनके अपनों को सकुशल मध्य प्रदेश लाया जाए. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मणिपुर के सीएम से फोन पर चर्चा की थी की कैसी इन बच्चों को सकुशल निकाला जाए. मंगलवार तक ये बच्चे अपने घर व परिवार के साथ होंगे.
ये भी पढ़ें: बागेश्वर धाम में फिर बवाल, आश्रम से गायब हो रहे लोग