17 मुल्‍क, 35,000 मेहमान और पीएम मोदी… लगने जा रहा ‘महामेला’, इंडिया एनर्जी वीक के बारे में जानें सबकुछ

नई दिल्‍ली: गोवा में 6-9 फरवरी तक आयोजित होने वाला है। इसमें 17 देशों के ऊर्जा मंत्री, 35 हजार से ज्‍यादा मेहमान और 900 से अधिक प्रदर्शक (एग्जिबिटर) श‍िरकत करेंगे। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सोमवार को यह जानकारी दी। इस बार का मुख्य आकर्षण छह देशों के डेडिकेटेड पवेलियन होंगे। इन देशों में कनाडा, जर्मनी, नीदरलैंड, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल हैं। ये कार्यक्रम स्थल पर अपने पवेलियन लगाएंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तेल और गैस कंपनियों के सीईओ के साथ राउंडटेबल करेंगे। इसके अलावा उनकी भारत-अमेरिका इंवेस्‍टमेंट राउंडटेबल करने की भी योजना है। 300 से ज्‍यादा प्रदर्शकों के साथ खास मेक इन इंडिया पवेलियन का आयोजन किया जा रहा है। यह पवेलियन भारतीय एमएसएमई ऊर्जा क्षेत्र में इनोवेशन को शोकेस करेगा। IEW-24 की अवधि के साथ सेशंस में भी बढ़ोतरी की गई है। इसमें तीन से चार दिन तक का इजाफा किया गया है। इस साल ज्‍यादा डेडिकेटेड सेशंस की योजना बनाई जा रही है। इसमें 46 स्‍ट्रैटेजिक सेशन और 46 टेक्‍न‍िकल सेशंस शामिल हैं। यह संख्‍या पिछले साल आयोजित तकनीकी सत्रों से दोगुनी से ज्‍यादा है। इसके लिए अभी से माहौल बनने लगा है। राजधानी में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने ओएनजीसी दीनदयाल उर्जा भवन में ‘एनर्जी स्टार्टअप्स: ड्राइविंग द एनर्जी फ्यूचर’ नाम का एक कार्यक्रम आयोजित किया। इसका मकसद ऊर्जा क्षेत्र में आत्‍मनिर्भरता पर जोर था। इसके अलावा मंत्रालय ने ‘अविन्या’ नाम के एनर्जी स्टार्टअप चैलेंज का आयोजन किया। सेलेक्‍शन प्रोसेस के बाद लगभग 120 आवेदनों में से पांच स्टार्टअप का चयन किया गया। IEW के दौरान ग्‍लोबल साउथ कोऑपरेशन, कार्बन कैप्चर एंड यूटिलाइजेशन (CCUs) जैसे महत्वपूर्ण विषयों को कवर करने वाली कई बैठकें आयोजित की जा रही हैं। संक्षेप में कहें तो भारत ऊर्जा सप्ताह 2024 ऊर्जा क्षेत्र में महत्वपूर्ण वैश्विक आयोजन है। इसमें कई स्‍तर पर अहम वार्ताएं होंगी। यह इनोवेशन का प्रदर्शन और भविष्य के लिए दिशा निर्धारित करने का मौका देता है। मुख्य आकर्षण:विदेशी प्रतिनिधित्व: छह समर्पित पवेलियन – कनाडा, जर्मनी, नीदरलैंड, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका – कार्यक्रम स्थल पर लगाए जाएंगे।पीएम मोदी की भागीदारी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तेल और गैस कंपनियों के सीईओ के साथ एक राउंडटेबल और भारत-अमेरिका इंवेस्‍टमेंट राउंडटेबल आयोजित करेंगे।मेक इन इंडिया प्रदर्शन: 300 से अधिक प्रदर्शकों के साथ एक विशेष मेक इन इंडिया मंडप का आयोजन किया जा रहा है, जो भारतीय एमएसएमई ऊर्जा क्षेत्र में इनोवेशन का प्रदर्शन करेगा।सत्रों में बढ़ोतरी: IEW-24 की अवधि और रणनीतिक सत्रों की संख्या तीन से चार दिन तक बढ़ा दी गई है। इस वर्ष अधिक समर्पित सत्रों की योजना बनाई जा रही है, जिसमें 46 रणनीतिक सत्र और 46 तकनीकी सत्र शामिल हैं, जो पिछले वर्ष आयोजित तकनीकी सत्रों से दोगुने से अधिक हैं।