नए साल में 40 मिनट के अंदर महाकालेश्वर के हो जाएंगे दर्शन, ऐसी की गई व्यवस्था; जानिए पूरा प्लान

नए साल पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान महाकालेश्वर के दर्शन करने धार्मिक नगरी उज्जैन पहुंच सकते हैं. इन्हीं संभावनाओं को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने ज्यादा से ज्यादा श्रद्धालुओं को भगवान महाकालेश्वर के दर्शन व्यवस्थित तरीके से कराने का खास प्लान तैयार कर लिया है. जानकारी के मुताबिक इस बार श्रद्धालुओं को सिर्फ 40 मिनट में भगवान महाकालेश्वर के दर्शन कराने की व्यवस्था तैयार की जा रही है. साथ बताया जा रहा है कि नए साल पर भी मंदिर में प्रवेश महाकाल लोक द्वार से ही दिया जाएगा. इसी के साथ नए साल पर लगभग 5 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं के भगवान महाकालेश्वर मंदिर पहुंचने और दर्शन पूजन करने की संभावना है, जिसे लेकर तैयारियों का सिलसिला जारी है.
बाबा महाकाल की भस्मआरती के बाद सुबह दर्शन का सिलसिला प्रारंभ होगा. आमतौर पर दर्शन में 1 घंटा लगता है. इस बार तीन लेयर में लाइन लगेगी. 2022 के अंतिम दिन 31 दिसंबर को शनिवार और 2023 के पहले दिन 1 जनवरी को रविवार है. छुट्टी का दिन होने से महाकाल मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना है. महाकाल लोक की वजह इस बार पहले के बीते सालों की तुलना में अधिक भीड़ हो सकती है.
प्रशासन ने 31 दिसंबर व 1 जनवरी के लिए इंदौर रोड स्थित मेघदूत वन व हरसिद्धि के पीछे स्थित कर्कराज मंदिर में पार्किंग की व्यवस्था की है. मंदिर समिति कर्कराज से निशुल्क ई रिक्शा चलाने पर भी विचार कर रही है.
अब ऑनलाइन खरीद सकेंगे शीघ्र दर्शन के टिकट
यदि आपको महाकाल के शीघ्र दर्शन करने हैं तो आप इसके लिए ऑनलाइन टिकट भी खरीद सकते हैं. वैसे तो टिकट मंदिर के काउंटर पर भी मिलते हैं, लेकिन भीड़भाड़ वाले दिनों में काउंटरों पर लंबी कतार रहती है. इससे बचने के लिए आप 250 रुपये में शीघ्र दर्शन का टिकट खरीद सकते हैं. टिकट मंदिर की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं.
लगातार बढ़ रही भक्तो की संख्या
बता दें कि जब से महाकाल लोक का लोकार्पण हुआ है, तब से ही लगातार महाकालेश्वर मंदिर में भक्तों की संख्या बढ़ती चली जा रही है. यही कारण है कि श्रद्धालुओं को अब दर्शन करने में ज्यादा समय लग रहा है, जिसे देखते हुए नए साल में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के महाकाल लोक पहुंचने और भगवान महाकालेश्वर के दर्शन करने की संभावना है. यही कारण है कि मंदिर प्रबंधन समिति ने पहले से ही अपनी व्यवस्थाओं को चाक-चौबंद बनाने का फैसला कर लिया है. शनिवार से महाकाल मंदिर के गर्भगृह में सभी श्रेणी के भक्तों का प्रवेश बंद कर दिया गया है. भक्तों को गणेश मंडपम से महाकाल के दर्शन कराए जा रहे हैं. यह व्यव्स्था 5 जनवरी तक रहेगी.