मकर संक्रांति पर भगवान महाकाल को लगेगा तिल के पकवानों का भोग, पतंगों से सजेगा मंदिर

उज्जैन के राजाधिराज भगवान महाकालेश्वर के दरबार में हर त्योहार की शुरूआत सबसे पहले होने की परंपरा रही है. इसी के तहत मकर संक्रांति पर्व पर भी सबसे पहले भगवान महाकाल को तिल से स्नान कराया जाएगा और उबटन लगाकर शृंगार होगा. बाद मे शहर के अन्य मंदिरों में तिल-गुड़ के व्यंजनों का भोग अर्पण कर आरती की जाएगी. श्री महाकालेश्वर मे होने वाली पूजन परंपरा के अनुसार मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर तड़के सुबह चार बजे भस्म आरती में भगवान महाकाल को तिल्ली से बने उबटन द्वारा स्नान कराया जाता है.
इन दिनो सर्दी का मौसम है, इसलिए भगवान को गर्म जल से स्नान कराया जा रहा है. स्नान-ध्यान के उपरांत भगवान का भांग और सूखे मेवे से शृंगार कर नए वस्त्र व आभूषण धारण कराए जाएंगे. बाबा महाकाल को तिल्ली से बने पकवानों का भोग लगाकर आरती की जाएगी. इस अवसर पर मंदिर के गर्भगृह और नंदी हाल में पतंग से साज-सज्जा की जाएगी.
मकर संक्रांति 2023 पर यह रहेगा ग्रहों का विशेष योग
इस साल मकर संक्रांति 2023 पर सूर्य ग्रह के साथ ही साथ चंद्रमा, शनि, बुध और गुरु ग्रह भी मकर राशि में होंगे. ज्योतिष की मानें तो इस कारण से भी इस साल मकर संक्रांति तिथि बहुत ही शुभ होगी, जिसमें स्नान, दान और पूजा करने से पुण्यफल की प्राप्ति होगी. एक नहीं इस साल मकर संक्रांति परतीन खास संयोग बनेंगे.
नववर्ष की शुरूआत होने के बाद मकर संक्रांति हिंदू धर्म का सबसे महत्वपूर्ण पर्व है जो कि भगवान सूर्य देव से संबंधित होता है. ज्योतिष के अनुसार, सूर्य हर माह राशि परिवर्तन करते हैं, लेकिन जिस दिन सूर्य धनु राशि से निकलकर मकर राशि में गोचर करते हैं उस दिन मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है.
एक नहीं बल्कि पूरे तीन विशेष योग बनेंगे मकर संक्रांति पर
इस साल सूर्य 14 जनवरी रात्रि में मकर राशि में प्रवेश करेंगे, इसलिए 15 जनवरी के दिन मकर संक्रांति या उत्तरायण का पर्व धूमधाम के साथ मनाया जाएगा. मां अन्नपूर्णा ज्योतिष केन्द्र के प्रमुख ज्योतिषाचार्य पं सतीश नागर के अनुसार इस वर्ष मकर संक्रांति का पर्व कई मायनों में खास रहने वाला है, क्योंकि इस साल मकर संक्रांति पर एक नहीं बल्कि पूरे तीन विशेष योग बनेंगे.
इस वर्ष में मकर संक्रांति पर रोहिणी नक्षत्र का खास संयोग बनेगा. इस दिन रोहिणी नक्षत्र शाम 8:18 मिनट तक रहेगा. रोहिणी नक्षत्र को बहुत ही शुभ माना गया है. इस नक्षत्र में मकर संक्रांति के दिन स्नान-दान और पूजा-पाठ करने से विशेष फल मिलता है. इसके साथ ही मकर संक्रांति के दिन आनंदादि और ब्रह्म योग का शुभ संयोग भी बनने वाला है.
शिप्रा में आया 2 एमसीएम पानी
मकर संक्रांति के लिए नर्मदा का पानी त्रिवेणी आना शुरू हो गया है. उज्जैन मे मकर संक्रांति का स्नान होता है और इस दिन बड़ी संख्या में रामघाट तथा त्रिवेणी पर श्रद्धालु बाहर से आते हैं. उनके स्नान की व्यवस्था के लिए प्रशासन हर बार नर्मदा से पानी मंगवाता है. इस बार भी प्रशासन ने नर्मदा का मिलियन क्यूबिक मीटर (2 एमसीएम) पानी स्नान के लिए मांगा है जो त्रिवेणी आना शुरू हो गया है. अब त्रिवेणी और रामघाट का लेवल मेनटेन किया जाएगा और स्नान के लिए श्रद्धालुओं को नर्मदा का साफ पानी उपलब्ध होगा.
सांदीपनि आश्रम मे भी दो दिनो तक मनेगा उत्सव
भगवान श्रीकृष्ण की शिक्षा स्थली सांदीपनि आश्रम में 14 और 15 जनवरी को दो दिन मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाएगा. मंदिर के पुजारी पं. रूपम व्यास ने बताया भगवान श्री कृष्ण की पाठशाला में लोक परंपरा व शास्त्रीय मान्यता के अनुसार दो दिन उत्सव मनाने का निर्णय लिया गया है. दोनो दिन भगवान श्रीकृष्ण का तिल युक्त जल से अभिषेक-पूजन होगा भगवान को सर्दी के अनुरूप वस्त्र धारण कराए जाएंगे. भगवान को पांच प्रकार के तिल्ली से बने पकवानो का भोग लगाकर आरती की जाएगी.