नई मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के बाद, जानें कहां रहेगी भगवान राम की पुरानी प्रतिमा

अयोध्या में भगवान राम का भव्य राम मंदिर बनकर तैयार हो रहा है। इस राम मंदिर में सोमवार 22 जनवरी को रामलाल का प्राण प्रतिष्ठा समारोह आयोजित होने जा रहा है। यह कार्यक्रम बेहद ऐतिहासिक होने वाला है। राम लला की नई मूर्ति को नवनिर्मित राम मंदिर के गर्भगृह में स्थापित किया जा चुका है। इसी गर्भगृह में रामलला की विधिविधान से प्राण प्रतिष्ठा की जानी है। इस प्राण प्रतिष्ठा समारोह से पहले श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने वर्षों तक पूजी गई रामलला की पुरानी मूर्ति के संदर्भ में बड़ी जानकारी साझा की है। उन्होंने कहा कि प्रभु राम के अस्थायी मंदिर में रखी राम लला की पुरानी मूर्ति को नई मूर्ति के सामने रखा जाएगा। पुरानी मूर्ति को भी नई मूर्ति के समक्ष 22 जनवरी को ही मंदिर में प्रतिष्ठित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण में अब तक 1100 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च की जा चुकी है। इस काम को पूरा करने के लिए आने वाले समय में 300 करोड़ रुपये खर्च होंगे। अभी राम मंदिर का निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है। बता दें कि बीते सप्ताह ही राम मंदिर के गर्भगृह में 51 इंच की रामलला की मूर्ति को स्थापित किया गया था। तीन मूर्तियां हुई थी निर्मितबता दें कि राम मंदिर में स्थापित होने के लिए भगवान राम की तीन मूर्तियों का निर्माण करवाया गया था। इसमें से मैसूर स्थित मूर्तिकार अरुण योगीराज द्वारा बनाई गई मूर्ति को स्थापित होने के लिए चुना गया है। इसी मूर्ति की 22 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्राण प्रतिष्ठा करेंगे। वहीं जो दो अन्य मूर्तियां बनाई गई हैं उन्हें भी पूरे आदर और सम्मान के साथ मंदिर में रखा जाएगा। अधिकारी का कहना है कि एक मूर्ति हमारे पास रखी जाएगी क्योंकि प्रभु श्री राम के वस्त्र और आभूषणों को मापने के लिए हमें इसकी आवश्यकता होगी। राम लला की मूल मूर्ति के बारे में गिरि ने कहा, इसे राम लला के सामने रखा जाएगा। मूल मूर्ति बहुत महत्वपूर्ण है। इसकी ऊंचाई पांच से छह इंच है और इसे 25 से 30 फीट की दूरी से नहीं देखा जा सकता है। इसलिए हमें एक बड़ी मूर्ति की आवश्यकता थी। गिरि ने कहा, (मंदिर की) एक मंजिल पूरी हो चुकी है और हम एक और मंजिल बनाने जा रहे हैं।”  अरुण योगीराज द्वारा बनाई गई राम लला की मूर्ति के चयन पर, गिरि ने कहा, हमारे लिए तीन में से एक मूर्ति चुनना बहुत मुश्किल था। वे सभी बहुत सुंदर हैं, सभी ने हमारे द्वारा प्रदान किए गए मानदंडों का पालन किया। उन्होंने कहा, पहला मानदंड यह था कि चेहरा दिव्य चमक के साथ बच्चे जैसा होना चाहिए। भगवान राम अजानबाहु थे (एक व्यक्ति जिसकी भुजाएं घुटनों तक पहुंचती हैं) इसलिए भुजाएं इतनी लंबी होनी चाहिए। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष ने कहा कि अंग सही अनुपात में थे। उन्होंने कहा, बच्चे की नाजुक प्रकृति भी हमें दिखाई दे रही थी, जबकि आभूषण भी बहुत अच्छे और नाजुक ढंग से उकेरे गए थे। इससे मूर्ति की सुंदरता बढ़ गई। यह पूछे जाने पर कि ट्रस्ट के सदस्यों को तीन मूर्तियों में से सर्वश्रेष्ठ का चयन करने में कितना समय लगा, गिरि ने कहा, मैं हर महीने अयोध्या जाता था और उन स्थानों का दौरा करता था जहां मूर्तियों की नक्काशी की जा रही थी। उन स्थानों को जनता के लिए वर्जित कर दिया गया था। मूर्तियों को बनाने में चार से पांच महीने लगे। उनके पूरा होने के बाद, हमने एक दिन के लिए मूर्तियों को देखा और निर्णय लिया।  उन्होंने कहा कि 500 वर्षों के बाद, भारत में एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है और हम इसे दीपावली के रूप में देखते हैं। गिरि ने कहा , हम हर साल दिवाली मनाते हैं, लेकिन यह ऐतिहासिक है। इतने संघर्ष के बाद भगवान राम को प्रेम और सम्मान के साथ उनके मूल स्थान पर विराजमान किया जाएगा। यही भावना देश में व्याप्त है। गिरि ने कहा कि देश के युवाओं का झुकाव आध्यात्म की ओर हो रहा है। उन्होंने कहा, वे बुद्धिजीवी हैं। वे तार्किक रूप से सोचते हैं और उन्हें वैज्ञानिक प्रमाण की आवश्यकता है। फिर भी वे आध्यात्मिक और राष्ट्रवादी भावनाओं में डूबे हुए हैं। उन्होंने सनातन धर्म पर भद्दी टिप्पणी करने वालों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि लोगों को समझना चाहिए कि धर्म का मतलब क्या है।उन्होंने कहा, ‘‘… धर्म अंतर्निहित कानून है जो प्रकृति और आस्था को नियंत्रित करता है। आप विज्ञान में विश्वास करें या न करें लेकिन वैज्ञानिक सिद्धांत मौजूद हैं। उसी तरह, धर्म के सिद्धांत शाश्वत हैं। जो लोग उन्हें समझते हैं और उनका पालन करते हैं उन्हें लाभ होता है जबकि जो लोग उन्हें अनदेखा करते हैं उन्हें कोई लाभ नहीं मिलता है।