दिल्ली-NCR में कड़ाके की ठंड, शीतर लहर से कब मिलेगी राहत? जानें मौसम विभाग की भविष्यवाणी

cold-wave नई दिल्ली : दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत में लोग ठंड से ठिठुर रहे हैं। धुंध के कारण सुबह सड़क पर वाहनों का चलना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में लोगों के मन में एक ही सवाल है कि आखिर इस ठंड और कोहरे से राहत कब तक मिलेगी। दिल्ली में मंगलवार को शीतलहर की स्थिति से उत्तर पश्चिमी भारत को प्रभावित करने वाले एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ के कारण थोड़ी राहत मिली। इस वजह से उत्तर भारत के कई इलाकों में तापमान में एक से तीन डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि दर्ज की गई। हालांकि घने कोहरे के कारण दृश्यता घटकर 50 मीटर रह गई। इससे सड़क तथा ट्रेनों का देरी से चलना बरकरार है।

घने कोहरे से अभी राहत नहींमौसम विभाग का कहना है कि अगले चौबीस घंटों के दौरान पंजाब, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली और उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में घना कोहरा छाया रहेगा। ठंड की स्थिति बनी रहेगी। आईएमडी ने कहा कि हालांकि इसके बाद इस स्थिति में सुधार की संभावना है। उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों में पंजाब, बिहार, हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश तक उत्तर भारत के कई क्षेत्रों में कोहरे की घनी परत दिखाई दे रही है।

अगले चार दिन शीत लहर का असर कमभारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के ताजा बुलेटिन के अनुसार, ‘‘उत्तर पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों से शीत लहर की स्थिति कम हो गई है। अगले चार दिनों के दौरान उत्तर भारत में शीत लहर की स्थिति की संभावना नहीं है।’ मौसम विज्ञानी तीव्र ठंड के लंबे दौर के लिए दो पश्चिमी विक्षोभों के बीच एक बड़े अंतर को जिम्मेदार ठहराते हैं। इसका मतलब है कि बर्फ से ढके पहाड़ों से ठंडी हवाएं सामान्य से अधिक समय तक चलीं।

दो से चार डिग्री बढ़ जाएगा तापमान
आईएमडी के एक अधिकारी ने कहा कि जब एक पश्चिमी विक्षोभ (मध्य पूर्व से आने वाली गर्म नम हवाओं वाली एक मौसम प्रणाली) एक क्षेत्र में पहुंचता है, तो हवा की दिशा बदल जाती है। इसलिए, पहाड़ों से उत्तर-पश्चिमी ठंडी हवाएं कुछ दिनों के लिए बहना बंद कर देंगी, जिससे तापमान में वृद्धि होगी। मौसम विभाग ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण अगले तीन दिनों में उत्तर पश्चिम भारत में न्यूनतम तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि हो सकती है, जबकि अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस तक जाने की संभावना है।