Manipur Violence को किरेन रिजिजू ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण घटना, कहा- केंद्र की ओर से सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे

मणिपुर हिंसा को लेकर सरकार सख्ती से कदम उठा रही है। पिछले तीन दिनों से राज्य में कई जगहों पर तलाव की स्थिथि है। इन सब के बीच केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू का भी बयान सामने आया है। किरेन रिजिजू ने पूरी घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि मणिपुर में जो हिंसा हुई है उसके लिए भारत सरकार और गृह मंत्रालय की तरफ से सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। जब दो समुदाय के बीच में इस तरह की घटनाएं होती हैं तो बहुत दुख होता है। उन्होंने कहा कि हम अपने समाज को शांति से ही आगे ले जा सकते हैं।  इसे भी पढ़ें: Manipur Violence: अमित शाह ने रद्द किया कर्नाटक चुनाव प्रचार, स्थिति पर रख रहे पैनी नजरअधिकारियों ने कहा कि मणिपुर में मरने वालों की संख्या बढ़कर 54 हो गई। इंफाल घाटी में शनिवार को दुकानें और बाजार फिर से खुलने और सड़कों पर कारों के चलने से जनजीवन सामान्य होता दिख रहा है। इंफाल शहर और अन्य जगहों पर सुबह ज्यादातर दुकानें और बाजार खुले और लोगों ने सब्जियां और अन्य आवश्यक वस्तुएं खरीदीं, हालांकि बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए थे। राज्य में पिछले 48 घंटों के दौरान हुई हिंसा पर काबू पाने एवं शांति कायम करने के लिए पड़ोसी राज्यों से सड़क और हवाई मार्ग से अधिक बल भेजे गए हैं। एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा कि कुल 13,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।  इसे भी पढ़ें: मणिपुर में हालात इतने खराब कैसे हुए, क्या है नागा-कुकी और मैतेई विवाद, समाधान का रास्ता क्या है, 10 प्वाइंट में पूरा मामला समझेंकुछ लोगों को सेना के शिविरों में स्थानांतरित कर दिया गया है जबकि सेना ने चुराचांदपुर, मोरेह, काकचिंग और कांगपोकपी जिलों को अपने नियंत्रण में ले लिया है। हाालंकि, घाटी के आसपास के विभिन्न पहाड़ी जिलों से सुबह के समय उग्रवादी समूहों और सुरक्षा बलों के बीच रुक-रुक कर गोलीबारी की खबरें भी आती रहीं, लेकिन शांति की स्थिति बनी हुई है। केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और शीर्ष अधिकारियों के साथ मिलकर मणिपुर की स्थिति की समीक्षा की। सूत्रों ने बताया कि केन्द्र सरकार ने राज्य में शांति बनाए रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बल और दंगा-रोधी वाहन भेजे हैं। शाह मणिपुर की स्थिति पर करीब से नजर बनाए हुए हैं और राज्य तथा केन्द्र सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों से पूरे दिन लगातार संपर्क में रहे।