Kiren Bedi Birthday: जब किरण बेदी ने उठवा ली थी देश की पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की कार, आज मना रहीं 74वां बर्थडे

आज के समय में महिलाएं पुरुषों के बराबर कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। फिर चाहे डॉक्टर, इंजीनियर या पुलिस सेवा हो, हर जगह महिलाएं अपनी योग्यता व प्रतिभा का परिचय दे रही हैं। महिलाएं न सिर्फ पुलिस सेवा देश की सुरक्षा के लिए सेना की तीनों विंग्स में नियुक्त हैं। देश के रक्षा विभाग में महिलाओं की भूमिका बढ़ रही है। लेकिन इसका श्रेय उन महिलाओं को देना होगा, जिन्होंने आने वाली पीढ़ी की महिलाओं को भी आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहिक किया है। इन्हीं में से एक महिला हैं, किरण बेदी…देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी महिलाओं के लिए प्रेरणा है। इससे पहले किसी भी महिला ने पुलिस प्रशासनिक सेवा में सहभागिता नहीं की थी। लेकिन इससे पहले किरण बेदी ने कड़ा संघर्ष किया था। किरण बेदी ने आईपीएस को लक्ष्य बनाते हुए UPSC परीक्षा की तैयारी की। इस परीक्षा को पास करने के बाद उन्होनें अन्य महिलाओं को पुलिस प्रशासनिक सेवा में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने का काम किया। बता दें कि आज के दिन यानी की 9 जून को किरण बेदी अपना 74वां जन्मदिन मना रही हैं। आइए जानते हैं किरण बेदी के जीवन के कुछ रोचक तथ्यों के बारे में…जन्म और परिवारपंजाब के अमृतसर में 9 जून 1949 को किरण बेदी का जन्म हुआ था। इनके माता-पिता का नाम प्रकाश ला पेशावरिया और मां प्रेमलता था। किरण की चार बहने हैं। किरण को बचपन में उनके घरवाले किमी नाम से बुलाते थे। किरण बेदी का जन्म जलियांवाला बाग के पास बीता था। शिक्षाकिरण बेदी ने अपनी शुरूआती शिक्षा सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल से पूरी की थी। इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया। यहां से उन्होंने पॉलिटिकल साइंस में मास्टर्स डिग्री हासिल की थी। फिर किरण बेदी ने दिल्ली यूनिवर्सिटी ने कानून की डिग्री से एलएलबी की पढ़ाई पूरी की। आईआईटी दिल्ली से साल 1993 में समाज विज्ञान विभाग से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। टेनिस में एशियन चैंपियनकिरण बेदी की बचपन से ही काफी दमदार पर्सनालिटी थी। जब उनके पिता ने लूना खरीदी थी तो किरण मोपेड चलाने वाली शहर की पहली लड़की थीं। किरण बेदी के पिता एक टेनिस खिलाड़ी थे। यही वजह थी कि किरण को भी बचपन में टेनिस खेलने का शौक था। उन्होंने अमृतसर में पढ़ाई के दौरान टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। जिसके बाद वह एशियन चैंपियन बन गई थीं। ऐसे बनीं आईपीएस अधिकारीकिरण बेदी को बचपन से ही देश की महिलाओं और बेटियों के लिए कुछ करने का जुनून था। बताया जाता है कि वह एक बार किसी रिश्तेदार की बेटी की शादी में गए थे। वहां पर लड़की को दिए जाने वाले दहेज को देख किरण बिना कुछ खाए-पिए ही वापस लौट आई थीं। जिसके बाद उन्होंने ठान लिया था कि वह दहेज के खिलाफ लोगों को जागरुक करेंगी। वहीं स्कूल के समय में किरण की बहन से किसी ने छेड़खानी की थी। जिस पर किरण ने उसकी सरेआम पिटाई कर दी थी। इस घटना के बाद से उन्होंने लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास करना शुरू कर दिया।आईपीएस बनने का सफरसाल 1970 में आईपीएस किरण ने अपने करियर की शुरुआत अमृतसर के खालसा कॉलेज से की थी। यहां पर उन्होंने बतौर लेक्चरर अपनी सेवा देनी शुरू की थी। जिसके बाद साल 1972 में किरण बेदी ने शादी कर ली थी। इसके बाद वह आईपीएस की ट्रेनिंग करने चली गई थीं। बाद में उनको पहली पोस्टिंग दिल्ली में मिली थी। इस दौरान सड़कों को जाममुक्त बनाने के लिए उन्होंने अवैध रूप से खड़ी और नो पार्किंग में खड़ी गाड़ियों को जब्त करवा लिया था। इस दौरान उन्होंने तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी और सीबीआई के निदेशक भी गाड़ी उठवा ली थी। पुलिस सेवा के बाद साल 2007 में रिटायरमेंट ले लिया था। इसके अलावा वह लोकप्रिय टीवी सीरिज ‘आप की कचहरी’ की होस्ट भी रह चुकी हैं। बता दें कि दिल्ली में बीजेपी से सीएम पद की उम्मीदवार भी रह चुकी हैं।