खरगे और राहुल की तेलंगाना के कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक, एकजुट होने का संदेश

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाने को लेकर मंगलवार को राज्य के वरिष्ठ पार्टी नेताओं के साथ बैठक की जिसमें उन्होंने प्रदेश के नेताओं से कहा कि वे मतभेद भुलाकर एवं एकजुट होकर लड़ें।
कांग्रेस मुख्यालय में हुई इस बैठक में पार्टी के संगठन महासचिव के.सी. वेणुगोपाल, प्रदेश प्रभारी माणिकराव ठाकरे, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी और कुछ अन्य वरिष्ठ नेता शामिल थे।
तेलंगाना में इस वर्ष के अंत में विधानसभा चुनाव होना है। वर्ष 2014 में तेलंगाना राज्य की स्थापना के बाद से भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) सत्ता में है। पहले इस पार्टी का नाम तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) था।
बैठक के बाद खरगे ने ट्वीट किया, ‘‘तेलंगाना के लोग बदलाव के लिए उत्सुक हैं। वे कांग्रेस पार्टी की ओर देख रहे हैं। कांग्रेस पार्टी यह चुनौती लेने के लिए तैयार है। हम साथ मिलकर तेलंगाना के लिए ऐसा उज्ज्वल भविष्य बनाएंगे जो लोकतांत्रिक मूल्यों और सर्वांगीण सामाजिक कल्याण पर आधारित होगा। ’’
माणिक राव ठाकरे ने बैठक का ब्यौरा देते हुए संवाददाताओं से कहा, ‘‘आज दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष खरगे जी, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जी और कांग्रेस महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल जी ने चुनाव को लेकर तेलंगाना के नेताओं के साथ चर्चा की है। हम लोगों से सभी (वरिष्ठ नेताओं) ने तेलंगाना की वास्तविक समस्याओं पर ध्यान देने के लिए कहा है और इसे ही लेकर हम आगे बढ़ेंगे।’’
ठाकरे ने यह भी कहा, ‘‘कांग्रेस सरकार ने जनता की आवाज सुनकर तेलंगाना को अलग राज्य का दर्जा दिया था। गरीबी से जूझ रहे एससी, एसटी, ओबीसी, अल्पसंख्यक वर्ग की मदद के लिए अलग प्रदेश बना था, लेकिन 10 साल बाद भी प्रदेश की स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं हुआ।’’
उनका दावा था, ‘‘केसीआर सरकार में जिस तरह की लूट जारी है, उसे देखकर तेलंगाना की जनता अब बदलाव चाहती है।’’
उन्होंने बताया, ‘‘राहुल जी ने कहा कि आपसी मतभेद को छोड़कर, एकजुट हो जाइए और मिलकर मुकाबला करना है। उनका यह संदेश था।’’
इस बैठक से एक दिन पहले ही पूर्व सांसद पी श्रीनिवास रेड्डी और तेलंगाना सरकार के पूर्व मंत्री जुपल्ली कृष्ण राव समेत प्रदेश के 35 नेताओं ने खरगे और गांधी से मुलाकात कर पार्टी में शामिल होने की घोषणा की थी।
ये नेता अगले महीने तेलंगाना में औपचारिक रूप से कांग्रेस में शामिल होंगे।
राहुल गांधी आगामी दो जुलाई को तेलंगाना में पार्टी के लिए चुनाव अभियान की शुरुआत करेंगे।