केजरीवाल, केसीआर, गुलाम नबी को नहीं मिला न्यौता, भारत जोड़ो यात्रा के समापन पर क्या एकजुट होगा विपक्ष?

नई दिल्ली: भारत जोड़ो यात्रा के बीच कांग्रेस की ओर से एक बार फिर से विपक्षी दलों को एक मंच पर लाने की कोशिश की जा रही है। राहुल की अगुवाई में भारत जोड़ो यात्रा इस वक्त पंजाब में है और यात्रा का समापन 30 जनवरी को श्रीनगर में होगा। भारत जोड़ो यात्रा की सफलता से उत्साहित कांग्रेस इस दिन को और भी खास बनाना चाहती है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने समान विचारधारा वाले 21 दलों को श्रीनगर में भारत जोड़ो यात्रा के समापन समारोह में शामिल होने के लिए पत्र लिखा है। खरगे ने पत्र में लिखा है कि मैं आप लोगों को व्यक्तिगत रूप से आमंत्रित करता हूं कि श्रीनगर में 30 जनवरी को भारत जोड़ो यात्रा के समापन समारोह में शामिल हों। कांग्रेस की ओर से लगभग विपक्ष के लगभग अधिकांश दलों को आमंत्रित किया गया है लेकिन इस लिस्ट में आम आदमी पार्टी, केसीआर की बीआरएस और गुलाम नबी आजाद की पार्टी शामिल नहीं है। वहीं ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी तमाम और दूसरे दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है।यात्रा में शामिल होने के लिए इन दलों को किया आमंत्रितयात्रा में शामिल होने के लिए जिन दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है उसमें TMC प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, जनता दल (यूनाइटेड) के नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डीएमके अध्यक्ष और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेता और बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव, उद्धव ठाकरे, तेलुगु देशम पार्टी (TDP) के नेता एन चंद्रबाबू नायडू, समाजवादी पार्टी (सपा) के अखिलेश यादव, बहुजन समाज पार्टी (BSP) प्रमुख मायावती, झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) प्रमुख और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, वामपंथी नेताओं सीताराम येचुरी और डी राजा का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है। इन दलों के प्रमुखों को लिखे पत्र में यह भी कहा कि उनकी मौजूदगी से यात्रा के सत्य, करुणा और अहिंसा रूपी संदेश को मजबूती मिलेगी। खरगे ने पत्र में लिखा है कि मैं आप लोगों को व्यक्तिगत रूप से आमंत्रित करता हूं। आम आदमी पार्टी, बीआरएस और गुलाम नबी आजाद की पार्टी का नाम नहीं कांग्रेस की ओर से भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने के लिए जिन राजनीतिक दलों के नेताओं को पत्र भेजा गया है उसमें कुछ दलों के नाम नहीं है। सूत्रों के मुताबिक इस लिस्ट आम आदमी पार्टी (AAP), तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की भारत राष्ट्र समिति (BRS)और गुलाम नबी आजाद की डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद पार्टी (डीपीएपी) शामिल नहीं हैं। यानी अरविंद केजरीवाल, केसीआर और गुलाम नबी आजाद का नाम इस लिस्ट में नहीं है। भारत जोड़ो यात्रा जब यूपी में प्रवेश कर रही थी उस वक्त अखिलेश यादव और मायावती को भी आमंत्रित किया गया था लेकिन यह दोनों नेता यात्रा में शामिल नहीं हुए। अब एक बार फिर यात्रा में शामिल होने के लिए नेताओं को आमंत्रित किया गया है।लोकसभा चुनाव से पहले क्या तस्वीर होगी साफलोकसभा चुनाव से पहले यह बड़ा सवाल है कि 2024 में पीएम मोदी के सामने कौन होगा। भारत जोड़ो यात्रा में अब तक कुछ दलों के नेता शामिल हो चुके हैं लेकिन 30 जनवरी के लिए खास तैयारी है। हालांकि इस लिस्ट में तीन दल जिनका जिक्र नहीं है उसमें दो दल ऐसे हैं जिनके नेता की ओर विपक्ष का चेहरा बनने की तैयारी की जा रही है। आम आदमी पार्टी बीजेपी के विकल्प के तौर पर खुद को पेश कर रही है। पहले दिल्ली और उसके बाद पंजाब में जीत के बाद पार्टी के हौसले बुलंद हैं। गुजरात में भी पार्टी का प्रदर्शन ठीक रहा। वहीं दूसरी ओर तेलंगाना के सीएम केसीआर भी इस रेस में शामिल हैं। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में विपक्ष के कुछ नेता शामिल हुए और कुछ नेताओं ने राहुल गांधी की तारीफ भी की है। राजनीति में हर शब्द और कदम के मायने निकाले जाते हैं और इस निमंत्रण के बाद भी अलग चर्चा शुरू होगी।