JJP गठबंधन तो BJP अकेले चुनाव लड़ने की कर रही बात, लोकसभा चुनाव को लेकर हरियाणा में इतनी कंफ्यूजन क्यों?

चंडीगढ़: वैसे तो इस साल पूरे देश में लोकसभा चुनाव होने हैं, लेकिन हरियाणा में अभी से ही राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। इसकी वजह इन दिनों बीजेपी-जेजेपी गठबंधन टूटने की चर्चा भी है। हालांकि बीजेपी के पास जेजेपी से गठबंधन तोड़ने की खास वजह भी है। बीजेपी के नेताओं का मानना है कि जेजेपी के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ने से उससे नुकसान होगा। हरियाणा की 10 की लोकसभा सीटों पर अभी बीजेपी का कब्जा है। अगर वो लोकसभा चुनाव जेजेपी के साथ मिलकर लड़ती है तो उसे कुछ सीटें उन्हें भी देनी होगी। ऐसे हुआ तो लोकसभा के बाद विधानसभा चुनावों में भी जेजेपी का दबाव बढ़ेगा। हरियाणा बीजेपी के साथ केंद्रीय नेतृत्व भी मान रहा है कि लोकसभा चुनाव में फिर मोदी मैजिक चलेगा। हरियाणा हिंदी बेल्ट है इसलिए इसकी यहां ज्यादा संभावना है। 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में इसी वजह के कारण पार्टी ने हरियाणा की सभी 10 सीटों पर जीत हासिल की थी। 2024 में भी पार्टी इसी फॉर्मूले पर आगे बढ़ना चाहती है। हरियाणा में गठबंधन तोड़ने के लिए बीजेपी अपने ऊपर कोई ब्लेम नहीं लेना चाहती। यहीं कारण है कि पार्टी अभी भी यहां पंजाब फॉर्मूले पर ही चल रही है। बता दें कि पंजाब में भी किसान आंदोलन के समय बीजेपी ने अकाली दल से गठबंध तोड़ने के बजाय उन्हें अलग होने के लिए मजबूर कर दिया। इसके बाद खुद शिरोमणी अकाली दल ने खुद ही 23 साल पुराने इस गठबंधन को तोड़ दिया था। हालांकि पंजाब में अकाली दल फिर से बीजेपी के साथ गठबंधन चाहता है, लेकिन बीजेपी अब उन्हें भाव तक नहीं दे रही है। हरियाणा में भी बीजेपी अब इसी फॉर्मूले पर चल रही है। वहीं जेजेपी की बात करें तो वो चाहती है लोकसभा चुनाव वो बीजेपी के साथ मिलकर ही लड़े। साथ मिलकर लड़ेंगे चुनावजेजेपी सुप्रीमो अजय चौटाला का कहना है कि वो एनडीए का पार्ट है। उनकी मानें तो लोकसभा चुनाव वो बीजेपी के साथ मिलकर लड़ेंगे। करनाल में एक रैली को संबोधित करने के बाद उन्होंने कहा कि वो बीजेपी के साथ मिलकर 10 की 10 सीट पर चुनाव लडेंगे और जीतेंगे। बीजेपी और जेजेपी दोनों पार्टियां 10 की 10 लोकसभा और 90 की 90 विधानसभा सीट पर तैयारी कर रही हैं, जो निर्णय होगा वो दोनों पार्टियां बैठकर करेगी। वहीं अजय चौटाला के बेटे और हरियाणा के डेप्यूटी सीएम दुष्यंत का कहना है कि बीजेपी और जेजेपी दोनों पार्टियां 10 की 10 लोकसभा और 90 की 90 विधानसभा सीट पर तैयारी कर रही हैं। जो निर्णय होगा वो दोनों पार्टियां बैठकर करेगी। वहीं उचाना से चुनाव लडने के सवाल पर ने कहा कि इसमें कोई शक है।क्या है बीजेपी का स्टैंडहरियाणा बीजेपी के प्रभारी बिप्लब कुमार देव कई बार कह चुके है बीजेपी हरियाणा की 10 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी। वो कई बार मीडिया के सामने इस बात को जोर देकर कह चुके हैं कि संगठन ने तय किया है कि 2019 की तरह 2024 में भी बीजेपी 10 की 10 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करेगी। अब ऐसे में अब जेजेपी के साथ बीजेपी मिलकर चुनाव लड़ती है या फिर दोनों के रास्ते अलग-अलग होंगे ये देखने वाली बात होगी।