ISRO ने 36 उपग्रहों को ले जाने वाला भारत का सबसे बड़ा LVM3 रॉकेट किया लॉन्च, जानें ये क्यों है इतना खास

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने 36 उपग्रहों को ले जाने वाला भारत का सबसे बड़ा LVM3 रॉकेट श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च कर दिया है। यह 36 उपग्रह ब्रिटेन स्थित नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड (वनवेब) के हैं। एलवीएम3-एम3 इसरो का भारी लिफ्ट रॉकेट है। वनवेब को भारत की दूरसंचार प्रमुख भारती समूह का समर्थन प्राप्त है।#WATCH | Andhra Pradesh: The Indian Space Research Organisation (ISRO) launches India’s largest LVM3 rocket carrying 36 satellites from Sriharikota(Source: ISRO) pic.twitter.com/jBC5bVvmTy— ANI (@ANI) March 26, 2023

कंपनी ने कहा था कि समूह को पूरा करके, वनवेब भारत सहित वैश्विक कवरेज प्रदान करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठा रहा है। आगामी लॉन्च वनवेब के लिए 18वां लॉन्च होगा।36 उपग्रहों का पहला बैच 23 अक्टूबर, 2022 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा रॉकेट पोर्ट से एलवीएम3 रॉकेट के साथ लॉन्च किया गया था, जिसे पहले जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल एमके3 (जीएसएलवी एमके3) के नाम से जाना जाता था।वनवेब के अध्यक्ष सुनील भारती मित्तल ने पिछले अक्टूबर में कहा था कि इसरो की वाणिज्यिक शाखा, न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) ने 1,000 करोड़ रुपये से अधिक के लॉन्च शुल्क के लिए दो चरणों में 72 उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए वनवेब के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं।जानें ये रॉकेट क्यों है इतना खासLVM3 रॉकेट 8000 किलोग्राम तक के सैटेलाइट्स को ले जाने की क्षमता वाले सबसे भारी उपग्रहों में से एक बताया जा रहा है। अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार, ये मिशन वनवेब के 36 सैटेलाइट के साथ सबसे भारी पेलोड ले गया है, जो 5,796 किलोग्राम के पेलोड के साथ पहला भारतीय रॉकेट बन गया है।यह लॉन्चिंग LVM3 के लिए भी पहला है जो भू-समकालिक स्थानांतरण कक्षा (GTO) के विपरीत उपग्रहों को लो अर्थ आर्बिट (पृथ्वी से 1,200 किलोमीटर ऊपर) में स्थापित करता है। इसरो के वैज्ञानिकों ने जीएसएलवी-एमके III (GSLV-MK III) से लॉन्च वाहन को एलवीएम 3-एम 2 (LVM3-M2 ) के रूप में नया नाम दिया है, क्योंकि यह रॉकेट 4,000 किलोग्राम वर्ग के उपग्रहों को जीटीओ में और 8,000 किलोग्राम पेलोड को एलईओ में लॉन्च करने में सक्षम है। जीएसएलवी-एमके III पूर्व में चंद्रयान -2 सहित चार सफल मिशन कर चुका है।