कर्नाटक में BJP को ले डूबेगी अंदरूनी कलह? जानें आखिर क्यों ‘डबल इंजन’ सरकार को सता रहा पटरी से उतरने का डर

कर्नाटक में सत्तारूढ़ बीजेपी पहली बार मुख्यमंत्री के चेहरे के बिना विधानसभा चुनाव लड़ने जा रही है। लेकिन पार्टी में अंदरुनी लड़ाई सत्ता में वापसी में प्रमुख बाधा बन कर उभर रही है। कर्नाटक को भगवा पार्टी के लिए दक्षिण भारत का प्रवेश द्वार माना जाता है। पहले पूर्व मुख्यमंत्री और लिंगायत समुदाय के नेता बी.एस. येदियुरप्पा ने पार्टी का नेतृत्व किया था और पार्टी ने उन्हें मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया था। 2013 में जब येदियुरप्पा ने नई पार्टी बनाई तो बीजेपी को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था।2019 के चुनावों में हालांकि बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी, लेकिन उसे ऑपरेशन लोटस के माध्यम से बहुमत पूरा करना पड़ा। बदले हुए परिदृश्य में, येदियुरप्पा को पद छोड़ने के लिए कहा गया और उनकी इच्छा और संघ परिवार की सहमति के अनुसार, बसवराज बोम्मई को मुख्यमंत्री बनाया गया।बोम्मई ने अच्छी शुरूआत की और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने घोषणा की कि आगामी विधानसभा चुनाव उनके नेतृत्व में लड़ा जाएगा। पार्टी के राज्य प्रभारी अरुण सिंह और अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भी बोम्मई का समर्थन किया। हालांकि, पूर्व सीएम जगदीश शेट्टार ने यह कहते हुए कैबिनेट का हिस्सा बनने से इनकार कर दिया कि बोम्मई उनसे जूनियर हैं। धीरे-धीरे, राज्य के नेताओं ने खुद पर जोर दिया और मांग की कि आगामी विधानसभा चुनाव सामूहिक नेतृत्व में लड़े जाएं।इस बीच, बोम्मई एक बड़े नेता के रूप में उभरने में विफल रहे और चुनावों से पहले पार्टी के साथ-साथ बोम्मई भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्मे पर अधिक भरोसा कर रहे हैं। जिस पार्टी ने हाल तक 80 वर्षीय येदियुरप्पा को दरकिनार किया था, वह उनके पास वापस चली गई है। पीएम मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सार्वजनिक रूप से घोषणा कर रहे हैं कि अगली सरकार येदियुरप्पा की इच्छा के अनुसार बनेगी। इसके बाद, पार्टी ने राज्य में मोदी और अमित शाह की सार्वजनिक रैलियों और रोड शो के माध्यम से कुछ गति प्राप्त की।उधर, कांग्रेस एक बार प्रियंका गांधी को प्रचार के लिए कर्नाटक ला चुकी है और राहुल गांधी अगले हफ्ते दौरा करने वाले हैं। मोदी हाल के दिनों में पांच बार राज्य का दौरा कर चुके हैं और आने वाले दिनों में उनका कार्यक्रम तय है। कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने पीएम मोदी को पोल एजेंट बताया। नेता प्रतिपक्ष सिद्दारमैया ने सवाल किया कि क्या मोदी या अमित शाह कर्नाटक के सीएम बनने जा रहे हैं? जद(एस) नेता और पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने कहा कि कोई भी दक्षिण कर्नाटक के लोगों की मानसिकता को नहीं बदल सकता।ऐसे समय में भगवा पार्टी को तब झटका लगा जब उसके विधायक मदल विरुपक्षप्पा टेंडर घोटाले में रिश्वत मामले में मुख्य आरोपी बन गए। उनके बेटे को 40 लाख रुपये कैश लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया। इसके बाद हुए ड्रामे ने पार्टी की छवि को धूमिल किया।इसी समय, चुनाव परिणामों को प्रभावित करने की धमकी देते हुए पार्टी के भीतर अंदरूनी कलह सामने आई। आवास मंत्री वी. सोमन्ना ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा आयोजित विजय संकल्प यात्रा के उद्घाटन को छोड़ कर विद्रोह का झंडा बुलंद किया।राजनीतिक गलियारों में अफवाहें फैलीं कि वह कांग्रेस पार्टी में शामिल होंगे। हालांकि, नई दिल्ली में सोमन्ना की अमित शाह से मुलाकात के साथ चीजें सुलझती दिख रही हैं। सोमन्ना चामराजनगर जिले के माले महादेश्वरा हिल्स में 108 फीट ऊंची नर महादेश्वर प्रतिमा के उद्घाटन के पार्टी कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं।एक अन्य मंत्री के.सी. नारायण गौड़ा, जो ‘ऑपरेशन लोटस’ के माध्यम से बीजेपी में शामिल हुए थे, कांग्रेस में जाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। वह मांड्या जिले से एकमात्र विधायक है, जिसे जद (एस) और वोक्कालिगा गढ़ के रूप में माना जाता है। अमित शाह दक्षिण कर्नाटक खासकर मांड्या से सीटें जीतने के इच्छुक हैं। इस घटनाक्रम को पार्टी की कोशिशों को झटके के तौर पर देखा जा रहा है।येदियुरप्पा के कट्टर समर्थक पूर्व एमएलसी मोहन लिंबिकाई कांग्रेस में चले गए। चिक्कमगलुरु जिले के एक प्रमुख नेता एचडी तमैय्या कांग्रेस में शामिल हो गए और इसे बीजेपी विधायक और राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि के लिए एक झटका माना जा रहा है।सी.टी. रवि ने पूर्व सीएम येदियुरप्पा को यह कहकर चुनौती दी थी कि वह अपने बेटे के लिए टिकट की घोषणा नहीं कर सकते हैं और बीजेपी में किचन कैबिनेट का कोई प्रावधान नहीं है। यह बयान तब आया, जब पार्टी लोगों के सामने यह आश्वासन देने जा रही थी कि पार्टी उनका सम्मान करेगी। बीजेपी के सूत्रों का दावा है कि रवि को आलाकमान ने किसी भी तरह का बयान नहीं देने के लिए कहा था। येदियुरप्पा के बेटे विजयेंद्र ने चेतावनी जारी की है कि उनके पिता को निशाना बनाने वाले लोग पछताएंगे और उनके पिता की चुप्पी को कमजोरी की निशानी के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। बोम्मई ने यह कहकर विजयेंद्र के लिए टिकट का आश्वासन दिया है कि शिकारीपुरा के लोगों को उनका समर्थन करना चाहिए जैसे उन्होंने येदियुरप्पा को किया था। बीजेपी के अंदरूनी सूत्रों का दावा है कि एक बार कांग्रेस पार्टी में टिकट की घोषणा हो जाने के बाद यह असंतोष खुलकर सामने आ जाएगा। फिलहाल, बीजेपी को एक बार फिर लहर पैदा करने के लिए पूरे प्रयास करने होंगे।