इंदौर मंदिर हादसे में मुख्यमंत्री ने दिए मजिस्ट्रेट जांच के निर्देश, मृतक संख्या बढ़कर 35 हुई

भोपाल (dailyhindinews.com)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने कैबिनेट मंत्रियों के साथ इंदौर में घटना स्थल का दौरा किया। रामनवमी के दिन बावड़ी गिरने के कारण अब तक 35 लोगों की जान चली गई है। मुख्यमंत्री ने साफ तौर पर कहा कि प्राथमिकी दर्ज, घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए गए हैं। जो भी जिम्मेदार पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मौजूदा प्राथमिकता रेस्क्यू ऑपरेशन है। उन्होंने कहा कि घायलों का नि:शुल्क इलाज किया जाएगा। पीएम ने पीड़ितों को अनुग्रह राशि देने की भी घोषणा की है। हमने राज्य भर में ऐसे बावड़ियों और बोरवेलों के निरीक्षण के आदेश दिए हैं। 

इन सब के बीच इंदौर पुलिस कमिश्नर ने बताया कि मंदिर प्रशासन के अध्यक्ष व सचिव के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 के तहत मामला दर्ज गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया है। इसके अलावा शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर के एक अस्पताल में घायल पीड़ितों से मुलाकात भी की है। इससे पहले शिवराज ने कहा था कि आज इंदौर में अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई है। घटना के बाद से ही मैं लगातार प्रशासन के संपर्क में था और रेस्क्यू ऑपरेशन की निगरानी कर रहा था। लोगों को बचाने के इस अभियान में पूरा प्रशासन जुटा हुआ था पर तमाम प्रयासों के बाद भी हम कई जिंदगियों को बचा नहीं पाए। 

चौहान ने कहा था कि बावड़ी पर अधिक बोझ होने के कारण वह धंस गई। मैंने घटना की जाँच के निर्देश दिए हैं। इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में जिन्हें हम बचा नहीं पाए उन सब परिवारों के साथ सरकार पूरी संवेदनशीलता के साथ खड़ी है। मृतकों के परिजनों को ₹5-5 लाख व घायलों को ₹50-50 हजार की सहायता राशि प्रदान करेंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे राज्यभर में जांच कर पता लगाएं कि किन कुओं और बावड़ियों को असुरक्षित तरीके से ढंककर उन पर निर्माण किया गया है और कौन-से नलकूप खुले रखे गए हैं? 

विनम्र अनुरोध : कृपया वेबसाइट के संचालन में आर्थिक सहयोग करें

For latest sagar news right from Sagar (MP) log on to Daily Hindi News डेली हिंदी न्‍यूज़ के लिए डेली हिंदी न्‍यूज़ नेटवर्क Copyright © Daily Hindi News 2021