भारत का अडानी दिखा, लेकिन अपने देश का सिलिकॉन वैली नहीं, हिंडनबर्ग की मंशा पर सवाल

नई दिल्ली: अमेरिकी रिसर्च फर्म () ने 24 जनवरी को अडानी समूह को लेकर अपनी निगेटिव रिपोर्ट जारी की। अपनी रिपोर्ट में हिंडनबर्ग ने अडानी ग्रुप की कंपनियों पर गड़बड़ी के आरोप लगाए । अडानी समूह की कंपनियों के खातों में हेरफेर, शेयरों की ओवर प्राइसिंग जैसे गंभीर आरोप लगाए। हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद अडानी के शेयरों का बुरा हाल हो गया। अडानी के शेयर 85 फीसदी तक गिर गए। कंपनी का मार्केट वैल्यू 140 अरब डॉलर तक गिर गया। हिंडनबर्ग की रिपोर्ट ने अडानी के शेयरों में हाहाकार मचा दिया। अब जब अमेरिकी बैंक में खलबली मची है तो हिंडनबर्ग के मंसूबों पर सवाल उठने लगे हैं। हिंडनबर्ग पर उठ रहे सवालअमेरिका की सिलिकॉन वैली बैंक के दिवालिया होने और बैंक पर ताला लगने के बाद सोशल मीडिया पर लोग हिंडनबर्ग से सवाल पूछ रहे हैं। हिंडनबर्ग की मंशा पर सवाल उठा रहे हैं। हिंडनबर्ग की खूब आलोचना हो रही है। लोग अडानी समूह पर हिंडनबर्ग के आरोपों को सिलिकॉन वैली बैंक से जोड़कर देख रहे हैं। लोग सवाल कर रहे हैं कि हिंडनबर्ग को भारत में अडानी समूह की गड़बड़ियां दिखी, लेकिन अपने देश में हो रही इतनी बड़ी घटना पर उसकी नजर नहीं पड़ी। उसे अपने देश में हो रहे बैंकिंग घोटाले नहीं दिखे। हिंडनबर्ग के आरोपों पर सवाल उठ रहे हैं। हालांकि ये कोई पहली बार नहीं है जब हिंडनबर्ग की रिपोर्ट पर सवाल उठे हैं। पहले भी सवाल उठते रहे हैं कि हिंडनबर्ग ने अपने निजी फायदे के लिए अडानी की कंपनियों को लेकर रिपोर्ट जारी की। शॉर्ट सेलिंग के जरिए हिंडनबर्ग ने अपने मुनाफे के लिए अडानी समूह के खिलाफ रिपोर्ट जारी की। अब सिलिकॉन वैली पर उसकी चुप्पी उसकी मंशा पर सवाल खड़े कर रहे हैं। एक्टर विंदू दारा सिंह ने लिखा कि हिंडनबर्ग ने अडानी पर आरोप लगाए, लेकिन हैरानी है कि उसे सिलिकॉन वैली बैंक की गड़बड़ी नहीं दिखी। सिलिकॉन वैली बैंक अपनी गड़बड़ी के कारण धराशायी हो गया, लेकिन हिंडनबर्ग की नजर उसपर नहीं पड़ी है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि हिंडनबर्ग रिसर्च कितना सही था। लोग अडानी समूह पर हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को लेकर अब उसकी मंशा पर सवाल खड़े कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग हिंडनबर्ग पर सवाल उठा रहे हैं। गौरतलब है कि हिंडनबर्ग की निगेटिव रिपोर्ट के कारण अडानी समूह को बड़ा नुकसान हुआ। अब धीरे-धीरे वो इस नुकसान से उबर रहे हैं।