भारत पुरुषों के ड्रा में चीन, बांग्लादेश और म्यामां के साथ; महिला टीम के ग्रुप में थाईलैंड, ताइपे

भारतीय पुरुष फुटबॉल टीम को एशियाई खेलों के लिए गुरुवार को यहां हुए ड्रा में चीन, बांग्लादेश और म्यामां के साथ ग्रुप ए में रखा गया है जबकि महिला टीम ग्रुप बी में थाईलैंड और चीनी ताइपे के साथ शामिल है।
खेल मंत्रालय ने मौजूदा चयन मापदंड में राहत देते हुए भारतीय पुरुष और महिला फुटबॉल टीमों की एशियाड में भाग लेने की अनुमति दी।
पुरुषों की स्पर्धा में छह ग्रुप हैं। प्रत्येक ग्रुप से शीर्ष दो टीमें तथा सर्वश्रेष्ठ तीसरे स्थान पर रहने वाली चार टीमें राउंड 16 में जगह बनायेंगी।
वहीं महिलाओं के वर्ग में प्रत्येक ग्रुप से शीर्ष टीम तथा सर्वश्रेष्ठ दूसरे स्थान पर रहने वाली तीन टीमें क्वार्टरफाइनल में पहुंचेंगी।
भारतीय पुरुष टीम ने 1951 में शुरुआती एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के बाद 1962 में भी यही उपलब्धि दोहरायी थी।
भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने पहले भारतीय फुटबॉल टीमों को इस आधार पर खेलों में भेजने से इनकार कर दिया था कि वे एशिया में शीर्ष आठ देशों की रैंकिंग में शामिल नहीं थीं।
अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने खेल मंत्रालय से दोनों टीमों को इस प्रतिष्ठित महाद्वीपीय टूर्नामेंट में हिस्सा लेने देने की अपील की थी। वहीं राष्ट्रीय सीनियर टीम के मुख्य कोच इगोर स्टिमक ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप की मांग की थी।
वर्ष 2002 के बाद से ही एशियाई खेलों की फुटबॉल स्पर्धा में अंडर-23 टीम हिस्सा लेती रही है जिसमें तीन खिलाड़ी इससे अधिक उम्र के हो सकते हैं।
हालांकि इस साल 24 साल के खिलाड़ी भी खेल सकते हैं क्योंकि पिछले साल चीन में कोविड-19 मामलों के कारण इन खेलों को एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया था। करिश्माई स्ट्राइकर सुनील छेत्री, गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू और स्टार डिफेंडर संदेश झिंगन अंडर-23 से अधिक उम्र के तीन खिलाड़ी होने के नाते भारतीय पुरुष टीम का हिस्सा होंगे।
ग्रुप में निचली रैंकिंग की म्यामां और बांग्लादेश शामिल हैं जिससे भारतीय पुरुष टीम के लिए यह आसान ड्रा है और इससे उसके प्रतियोगिता के अगले दौर में पहुंचने की उम्मीद है। वहीं महिला टीम के भी अगले दौर में पहुंचने की उम्मीद है।
एशियाई फुटबॉल परिसंघ (एएफसी) के अंतर्गत भारतीय पुरुष टीम रैंकिंग में 18वें स्थान पर है जबकि महिला टीम की रैंकिंग 11 है।
भारतीय पुरुष टीम सैफ चैम्पियनशिप जीतने के बाद फीफा रैंकिंग में एक बार फिर 99वें स्थान पर पहुंची थी। इस साल टीम ने इंटरकांटिनेंटल कप और तीन देशों के फुटबॉल टूर्नामेंट में जीत हासिल की थी।
महिला टीम ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है जिसमें उसने ओलंपिक क्वालीफायर के दूसरे राउंड में दो बार किर्गिस्तान को मात दी थी।
एशियाई खेलों में फुटबॉल की स्पर्धायें 19 सितंबर से शुरु होंगी और आठ अक्टूबर को प्रतियोगिता खत्म होने से एक दिन पहले फाइनल खेले जायेंगे।