उत्तर बनाम दक्षिण से INDIA गठबंधन को नुकसान! नीतीश-ममता की राजनीति से बढ़ेगी कांग्रेस की टेंशन

तेलंगाना में जब से कांग्रेस के जीत हुई है, उसके बाद देश में उत्तर बनाम दक्षिण की राजनीति भी जबरदस्त तरीके से जारी है। उत्तर और खासकर के हिंदी पट्टी के तीन बड़े राज्य छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में बीजेपी जीती। जबकि दक्षिण में तेलंगाना में कांग्रेस की जीत हुई। उसके बाद से उत्तर बनाम दक्षिण की राजनीति को हवा देने की कोशिश की गई। इसमें विपक्षी नेताओं की भूमिका कुछ ज्यादा ही रही। इसका बड़ा कारण यह भी है कि आने वाले दिनों में लोकसभा के चुनाव होने है। कांग्रेस और डीएमके जैसे विपक्षी दल दक्षिण में अपने गढ़ को भाजपा से बचना चाहते है और शायद इसी वजह से उत्तर भारतीयों को लेकर उनकी ओर से अलग-अलग बयान भी दिए गए हैं। हालांकि इससे कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय दलों के लिए चुनौती और भी बढ़ सकती हैं। इसे भी पढ़ें: सिकुड़ते जनाधार के बीच अरमानों के पंख फैला कर क्या दर्शाना चाह रही है बसपा?कांग्रेस की चिंताकर्नाटक में जीत हासिल करने के बाद कांग्रेस ने तेलंगाना में जबरदस्त जीत हासिल की। इसके अलावा 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने केरल में शानदार जीत हासिल की थी। ऐसे में दक्षिण राज्यों में फिलहाल कांग्रेस का दबदबा साफ तौर पर देखने को मिलता है। कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने सिर्फ पोस्ट किए थे द साउथ। इसी के बाद से यह लड़ाई और भी तेज हो गई। भाजपा ने इसे विभाजनकारी सोच बता दिया। हालांकि कांग्रेस 2024 में सत्ता में आने की कोशिश में जुटी है। 28 दलों को मिलाकर इंडिया गठबंधन बनाया गया है। लेकिन उत्तर बनाम दक्षिण की लड़ाई में कांग्रेस को सबसे ज्यादा नुकसान हो सकता है। इसका बड़ा कारण यह भी है कि दक्षिण के नेताओं की ओर से उत्तर भारतीय को लेकर लगातार बयान बाजी की जाती है। इतना ही नहीं, हिंदी के खिलाफ भी उनकी ओर से बोला जाता है। कांग्रेस इस पर खुलकर कोई स्टैंड नहीं ले पाती। यही कारण है कि हिंदी पट्टी राज्यों में उसे नुकसान का डर है। नीतीश का रुखसंसद में डीएमके के एक सांसद ने उत्तर भारतीयों को लेकर गोमूत्र वाला बयान दिया था। उसके बाद डीएमके के एक दूसरे नेता ने बिहार, उत्तर प्रदेश के हिंदी भाषी लोगों की तुलना टॉयलेट साफ करने वालों से कर दी थी। इन तमाम मसलों पर कांग्रेस को जितना खुलकर बोलना चाहिए था, पार्टी ने उस हिसाब से अपना पक्ष नहीं रखा। वहीं, भाजपा आक्रामक रही। ऐसे में इंडिया गठबंधन के लिए चुनौतियां कई सारी हैं। बताया जाता है कि जिस तरीके से इंडिया गठबंधन के भीतर इंग्लिश को बढ़ाने की कोशिश की जा रही है, वह बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार को कतई पसंद नहीं है। अक्सर हमने देखा है कि नीतीश इंग्लिश के खिलाफ बोलते रहते हैं। वह हिंदी को प्रमोट करने के हमेशा पक्ष में रहे हैं। खबर तो यह भी आई थी कि जब गठबंधन का नाम इंडिया रखा जा रहा था तो नीतीश ने इसका विरोध किया था और उन्होंने इसे हिंदी नाम पर रखने को कहा था। हालांकि, नीतीश के बाद को अनसुना कर दिया गया। इसके अलावा उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी भी हिंदी के पक्ष में खड़ी रहती है। वहीं, दूसरी ओर देखे तो ममता बनर्जी क्षेत्रीय स्मिता की बात करती हैं और वह लगातार बंगाली को प्रमोट करने की कोशिश में रहते हैं। कांग्रेस का कहना है कि गठबंधन में सारे दाल गुलाब की फूलों की तरह है जो एक साथ मिलकर गुलदस्ता बनते हैं। हालांकि, यह गुलदस्ता कहीं आने वाले समय में इंडिया गठबंधन पर ही भारी न पड़ जाए, इसका भी ध्यान रखना होगा। हिंदी पट्टी में आखिर कांग्रेस का सफाया क्यों हुआ, यह पार्टी के लिए सोचने वाली बात है। भाजपा दक्षिण में उस तरीके से मजबूत नहीं रही है। हां कर्नाटक में उसनी अपना सरकार खोया है लेकिन उसका वोट प्रतिशत बरकरार है। तेलंगाना में भी उसे अच्छी सफलता मिली है। लेकिन उत्तर भारत के राज्यों में कांग्रेस लगातार सिमटी जा रही है।कांग्रेस में असमंजस की स्थितिकांग्रेस को पता है कि उत्तर भारत में फिलहाल वह उतनी मजबूत नहीं है। लेकिन अगर दक्षिण भारत में वह अपने सीटों को बढ़ाने में कामयाब हो पाती है तो उसके भविष्य की राजनीति के लिए यह अच्छा हो सकता है। कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, केरल, लक्षद्वीप, पुडुचेरी, तमिलनाडु, तेलंगाना जैसे राज्य दक्षिण भारत में आते हैं। आंध्र प्रदेश, केरल, तेलंगना, कर्नाटक और तमिलनाडु को मिला दें तो यहां लोकसभा की 129 सीटें हैं। अगर इन 129 सीटों में से कांग्रेस को 70 से 80 पर भी जीत मिलती है तो यह पार्टी की उम्मीदों के लिए फायदेमंद रह सकता है। हालांकि, कांग्रेस हिंदी पट्टी के मुद्दों को लेकर अगर खामोश होती है तो उसके लिए उत्तर भारत में स्थिति और भी कठिन हो सकती है।  इसे भी पढ़ें: चुनाव से पहले Ayodhya के केंद्र में हैं PM Modi, BJP के हिंदुत्व को मिल रही मजबूती, विपक्ष के लिए बढ़ी चुनौतीवर्तमान में देखें तो दक्षिण के विपक्षी नेताओं के जो बयान है, उसे साफ तौर पर जाहिर होता है कि वह उत्तर भारतीयों को फिलहाल राजनीतिक तौर पर राष्ट्रवाद और हिंदुत्व के मुद्दे पर ही समेटना चाहते हैं। यह बात सच है कि भाजपा राष्ट्रवाद और हिंदुत्व का मुद्दा जोर-जोर से उठती है और उसे उत्तर भारत में जबरदस्त सफलता भी मिल रही है। दक्षिण भारत में भाजपा लंबे समय से एक्टिव है बावजूद इसके उसे वहां कामयाबी नहीं मिल पा रही है। हालांकि, भाजपा का साफ तौर पर कहना है कि 2024 लोकसभा चुनाव के बाद उत्तर बनाम दक्षिण की राजनीति समाप्त हो जाएगी। भाजपा को इस बात की भी उम्मीद है कि केरल और तमिलनाडु में उसके वोट प्रतिशत बढ़ने वाले हैं। भाजपा दावा करती रही है कि मतदाताओं को गुमराह करने के लिए उत्तर बनाम दक्षिण का नॉरेटिव विपक्ष की ओर से सेट किया जा रहा है। लेकिन उसमें उन्हें कामयाबी नहीं मिलेगी।