मंत्रोच्चार के बीच धंसी जमीन, 40 फीट बावड़ी में समाए लोग; बाहर निकालते ही दोबारा महिला अंदर गिरी

Indore Temple Tragedy: इंदौर के एक मंदिर में मंत्रोच्चार के बीच अचानक जोरदार आवाज के साथ जमीन धंसी और एक साथ 50 से ज्यादा श्रद्धालु 40 फीट गहरी बावड़ी में गिर गए. पलक झपकते ही रामनवमी पर्व का उत्सव दर्दनाक चीखों में बदल गया. चारों तरफ से बचाओ-बचाओ की आवाजें गूंजने लगी. कोई रस्सी तो कोई बांस की लंबी सीढ़ी लेकर रेस्क्यू करने दौड़ पड़ा. 40 फीट गहरी बावड़ी में गिरे लोगों को निकालने का प्रयास शुरू हुआ. एक-एक कर करीब 18 घायलों को बाहर निकाला गया.

इसी दौरान एक महिला को बाहर निकालते वक्त हाथ फिसल गया और दोबारा बावड़ी के अंदर गिर गई. हालांकि, कड़ी जद्दोजहद के बाद महिला को बाहर निकाल लिया गया. उधर, बावड़ी के बाहर आते ही घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहीं, घायल मंत्रोच्चार करने वाले पंडित ने बताया कि अचानक धड़ाम की आवाज आई और फर्श नीचे धंस गई. पता चला कि जिसपर हम खड़े थे, वो एक बावड़ी है.

ये भी पढ़ें-MP: 4 साल बाद चालू हुई थी अस्पताल की लिफ्ट, फिर बीच में अटकी; 1 घंटे तक फंसे रहे मरीजों के तीमारदार
14 की मौत, 26 अभी भी लापता; रेस्क्यू जारी
बताया जा रहा है कि हादसे में करीब 50 से ज्यादा श्रद्धालु बावड़ी के अंदर गिर गए. मौके पर राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की टीम का रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी जारी है. मोटर से बावड़ी का पानी निकाला गया है. कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी के मुताबिक, हादसे में अब तक 14 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, जबकि 26 अभी भी लापता हैं. घायल मंदिर के पंडित लक्ष्मी नारायण शर्मा ने बताया कि 12 बजे के करीब आरती का इंतजार हो रहा था. मंदिर में करीब 40 से 50 श्रद्धालु मौजूद थे. तभी अचानक धड़ाम की आवाज आई और फर्श नीचे धंस गई. पता चला कि जिसपर हम खड़े थे, वो एक बावड़ी है. किसी तरह बचाव दल ने बाहर निकाला और अस्पताल में भर्ती कराया.
बावड़ी पर अवैध निर्माण, जनवरी में नोटिस भी हुआ था जारी
प्रारंभिक जांच में अभी तक मंदिर प्रबंधन की लापरवाही सामने आई है. उधर, हादसे को लेकर नगर निगम बिल्डिंग ऑफिसर पीआर आर रोलिया ने बताया कि मंदिर के अंदर बनी बावड़ी पर अवैध निर्माण की शिकायत अप्रैल 2022 में कुछ स्थानीय लोगों से मिली थी, जिसके बाद जनवरी 2023 में नोटिस जारी कर अवैध निर्माण को हटाने के निर्देश भी दिए गए थे.

ये भी पढे़ं-MP : मंदिर में पुजारी ने ली समाधि तो हरकत में आया प्रशासन, गड्ढा खोदकर बाहर निकलवाया