‘महाकाल लोक’ में दिखेगी देशभर के लोक नृत्यों की झलक, PM के सामने 700 कलाकार देंगे परफॉर्मेंस

मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में ‘महाकाल लोक’ के लोकार्पण के दौरान जहां एक ओर ब्राह्मणजन वेद पाठ का सस्वर उच्चारण करेंगे तो वहीं दूसरी ओर देशभर से आए कलाकार अपने-अपने राज्यों के लोकनृत्य कर इस आयोजन की शोभा को बढ़ाएंगे और महाकाल लोक में भारत की विविधता में एकता का संदेश देंगे. महाकाल लोक के लोकार्पण के अवसर पर मालवा या मध्य प्रदेश ही नहीं, बल्कि पूरे देश की संस्कृति की झलक देखने को मिलेगी, क्योंकि इस लोकार्पण समारोह में असम, मणिपुर, गुजरात, महाराष्ट्र, उड़ीसा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश के आदिवासी अंचलों के करीब 700 कलाकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने अपनी प्रस्तुति देंगे.
900 मीटर लंबे इस महाकाल लोक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करने के लिए सैकड़ों की संख्या में विभिन्न प्रदेशों के कलाकार उपस्थित रहेंगे. लोकार्पण के दौरान नंदी द्वार पर शिवनाद की प्रस्तुति भी होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाकाल लोक का लोकार्पण करने के बाद महाकाल लोक का अवलोकन करेंगे, उसी समय महाकाल लोक के कुछ विशेष स्थानों पर यह कलाकार अपने-अपने राज्यों के लोक नृत्यों की प्रस्तुति देंगे, जिसमें मध्य प्रदेश की मालवा संस्कृति का नृत्य, गुजरात का गरबा, झारखंड के ट्राइबल एरिये से आए कलाकार भस्मासुर, केरल के कलाकार कथक और आंध्र प्रदेश के कलाकार कुचिपुड़ी नृत्य की प्रस्तुति देंगे.
झारखंड के आदिवासी भस्मासुर की प्रस्तुति देंगे
झारखंड के ट्राइबल एरिये से आए 12 कलाकार पीएम मोदी के सामने अपनी सांस्कृतिक परम्परा भस्मासुर की प्रस्तुति देंगे. भावेश कला केंद्र खरसावां से टीम दो दिन पहले उज्जैन पहुंच चुकी है. इसमें परमानंद, मछावा, सोनू लोहार, सुखराम, सोनिया, सुमि नमक कलाकार शामिल हैं.
4 दिन से कर रहे हैं अथक परिश्रम
अलग-अलग राज्यों से महाकाल लोक के लोकार्पण के दौरान प्रस्तुति देने पहुंचे कलाकार पिछले चार दिनों से महाकाल कॉरिडोर में ही विशेष नृत्यों का रिहर्सल कर रहे हैं. इन कलाकारों के द्वारा अपने नृत्य को इस प्रकार से निखारा गया है कि मुख्य प्रस्तुति के दौरान किसी भी प्रकार की कोई चूक न होने पाए.
पारंपरिक तरीके से होगा पीएम मोदी का स्वागत
इस विशाल जनसभा में साधु-संतों के साथ उज्जैन के स्थानीय लोग भी शामिल होंगे. पीएम मोदी के तय कार्यक्रम पर नजर डालें तो उनका शाम 5:30 बजे महाकाल की नगरी में आने पर भव्य स्वागत किया जाएगा. पारंपरिक तरीके से डमरू, घंटा-घड़ियाल और संगीत में रूद्र घोष के साथ पीएम मोदी का स्वागत होगा. पीएम महाकाल के दर्शन के बाद नंदी द्वार पर अनावरण कार्यक्रम में शामिल होंगे.
शिवलिंग की 16 फीट ऊंची प्रतिकृति का करेंगे अनावरण
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाकाल लोक में शिवलिंग की 16 फीट ऊंची प्रतिकृति का अनावरण करेंगे और महाकाल लोक में बने ऋषि कश्यप अत्रि भारद्वाज प्रतिमा का भी अवलोकन करेंगे. यहां पीएम मोदी विशेष वाहन से रुद्रसागर और दूसरी प्रति कृतियों को भी देखेंगे. उज्जैन में महाकाल लोक के उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान भारतनाट्यम मोहिनीअट्टम कुचिपुड़ी नृत्य प्रस्तुत होंगे. प्रधानमंत्री शिव तांडव आधारित मलखान प्रस्तुतियों को भी देखेंगे.