इमरान नहीं हुए गिरफ्तार, पुलिस से भिड़ गए समर्थक, 14 घंटे बाद भी पाकिस्तान में गृह युद्ध जैसे हालात

लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के यहां स्थित आवास के बाहर एकत्रित उनके समर्थक उनकी गिरफ्तारी को रोकने के लिए मंगलवार की देर रात पुलिस से भिड़ गए। खान को गिरफ्तार करने के लिए 14 घंटे तक कोशिश करने के बावजूद पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पाई। पिछले 14 घंटे से ज्यादा समय से पुलिस और खान के समर्थक भिड़े हुए हैं। खान के समर्थकों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और पानी की बौछार छोड़ी। खान के समर्थक उन्हें गिरफ्तार करने पहुंची इस्लामाबाद पुलिस का विरोध करने एकत्र हुए थे। तोशाखाना मामले में इमरान खान के खिलाफ गैर-जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी होने के एक दिन बाद पुलिस उनके घर पहुंची। सामने आये वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस एक बख्तरबंद वाहन के पीछे चलकर खान के जमान पार्क स्थित आवास की ओर बढ़ रही है और पानी की बौछार कर पूर्व प्रधानमंत्री के समर्थकों को तितर-बितर किया जा रहा है। कई वीडियो PTI के ट्विटर हैंडल से किए गए हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि पुलिस इमरान खान के निवास पर भी आंसू गैस के गोले दाग रही है। इस्लामाबाद पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि तोशाखाना मामले में खान को गिरफ्तार करने के लिए उनकी टीम यहां आई है। पुलिस पर किया गया पथरावखान (70) पर प्रधानमंत्री रहने के दौरान मिले उपहारों को तोशाखाना से कम दाम पर खरीदने और मुनाफे के लिए बेचने के आरोप हैं। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के अध्यक्ष खान के आवास की ओर बढ़ने के दौरान पुलिस और पीटीआई कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें हुईं। खान के समर्थकों, जिन्होंने अपने चेहरे को कपड़े से ढंक रखा था, ने पुलिसकर्मियों पर पथराव किया। मीडिया में आई खबर के मुताबिक, पथराव के चलते पुलिस दल का नेतृत्व कर रहे इस्लामाबाद के उप महानिरीक्षक (अभियान) शहजाद बुखारी घायल हो गए। झड़पों में खान के समर्थक और पुलिसकर्मी दोनों घायल हुए हैं। इमरान के वीडियो के बाद बवालखान ने एक वीडियो संदेश में अपने समर्थकों से ‘वास्तविक आजादी’ के लिए घरों से निकलने का आग्रह किया। खान ने वीडियो में कहा, ‘उन्हें (सरकार) लगता है कि मेरी गिरफ्तारी के बाद देश सो जाएगा। आपको उन्हें गलत साबित करना होगा।’ पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, ‘अगर मुझे कुछ हो जाता है और मुझे जेल भेज दिया जाता है या मुझे मार दिया जाता है, तो आपको यह साबित करना होगा कि आप इमरान खान के बिना भी संघर्ष करेंगे और इन चोरों और देश के लिए निर्णय लेने वाले एक व्यक्ति की गुलामी स्वीकार नहीं करेंगे।’ इससे पहले दिन में, पीटीआई के वरिष्ठ नेता फारुख हबीब ने संवाददाताओं से कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, इमरान खान फर्जी मामलों में पुलिस के सामने आत्मसमर्पण नहीं करेंगे। हबीब ने कहा, ‘महिला न्यायाधीश को धमकाने से संबंधित मामले में गिरफ्तारी वारंट को इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने आज निलंबित कर दिया। देखते हैं कि पुलिस अब क्या नया वारंट लेकर आई है।’ पुलिस से बातचीत का किया आग्रहजमान पार्क के बाहर मीडिया से बात करते हुए PTI नेता शाह महमूद कुरैशी ने पुलिस से बातचीत की पेशकश की। उन्होंने कहा, ‘पुलिस कह रही है कि उनके पास गिरफ्तारी का वारंट है। लेकिन में उनसे कहूंगा कि वह बातचीत करें। स्थिति को और भी न बिगाड़ें। PTI शांतिपूर्वक रहना चाहती है। उसका लक्ष्य खून खराबा नहीं है। मुझसे मिलें और बात करें। हमें बताएं कि आपके ऑर्डर क्या हैं?’ इसके साथ ही उन्होंने पीटीआई नेताओं के खिलाफ कार्रवाई को ज्यादती बताया।(एजेंसी इनपुट के साथ।)