अगर छोटे कपड़े पहनने से मॉर्डन होते हैं तो हमारी भैंसिया ज्यादा मॉर्डन- बागेश्वर बाबा

मध्य प्रदेश: बागेश्वर धाम के महाराज धीरेंद्र शास्त्री अपने बयानों को लेकर हमेशा ही सुर्खियों में बने रहते हैं. देश के कोने-कोने से लोग बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री से मिलने आते हैं. शास्त्री भी अपने चमत्कारी इलाज के लिए काफी फेमस हैं. इसी के ही साथ वो एक बार फिर अपने बयान को लेकर चर्चाओं में आ गए हैं. सोशल मीडिया पर धीरेंद्र शास्त्री का एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में वो कहते हुए नजर आ रहे है कि अगर छोटे कपड़े पहनना मॉडर्न होता है तो सबसे ज़्यादा हमारी भैंस मॉडर्न है, क्योंकि वो कपड़े ही नहीं पहनती है.

वीडियो में धीरेंद्र शास्त्री को कहते हुए सुना जा सकता है कि अंग्रेजी सभ्यता वाली कई माताएं और बहन कहने लगती हैं कि अब मॉडर्न जमाना है. छोटे कपड़े पहनने में बुराई नहीं. जिसके बाद उन्होंने कहा कि आग लगे ऐसे जमाने में अगर ये मॉर्डन जमाना है तो तुमसे ज्यादा मॉर्डन तो हमारी भैंस है क्योंकि वो तो कपड़े ही नहीं पहनती.

View this post on Instagram

A post shared by bagesvar dham (@bagesvardham)

बहन-बेटियों के अंग जब ढके रहते हैं और लज्जा से आंखे झुकी रहती हैं तब…
धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि हमारी भारतीय सभ्यता बहुत अच्छी है. बहन-बेटियों के अंग जब ढके रहते हैं और लज्जा से आखें झुकी रहती हैं तो उसकी मर्य़ादा और बढ़ जाती है. मर्यादा होना जरूरी है. मर्यादा के बिना सबकुछ अधूरा है.

ये भी पढ़ें- बाबा 4 साल से बाल नहीं धुली हूं बागेश्वर धाम पहुंची महिला बोली- पति की मौत की CBI जांच हो

वहीं धीरेंद्र शास्त्री के इस बयान को कई महिलाओं और लड़कियों ने गलत बताया है, लड़कियों का कहना है कि ये तो महिलाओं का अपमान है. सभी को अधिकार है वो कुछ भी पहने. ये तो नजरिए की बात है.
दो बच्चें है तो एक बच्चे को राम नवमी के जुलूस में भेंजे
छतरपुर के रामलीला मैदान में धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने लोगों से कहा कि अगर हिंदुओं के घर में दो बच्चे हैं तो एक बच्चे को रामनवमी के जुलूस में भेजें. साथ ही चार बच्चे हों तो दो बच्चों को रामनवमी के जुलूस में भेजा जाए. उन्होंने कहा कि अगर अभी नहीं कर पाए, तो फिर कब, कब होगा, हिंदू कब जागेंगे. अब बातों से काम नहीं चलना है, सड़कों पर निकलना पड़ेगा. अब बाहर निकलना पड़ेगा. बाहर निकलकर जागना पड़ेगा और सनातन के लिए कुछ करना पड़ेगा. चाहे पुरुष हों, चाहे माता हों, सबको जागना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें- हिंदुओं के घर में अगर दो बच्चे हैं तो एक बच्चे को रामनवमी के जुलूस में भेजो