दिवाली पर लक्ष्मी जी को पूजा जाता है, तो देवी के वाहन उल्लू की बलि क्यों चढ़ा देते हैं लोग?

ullu

नई दिल्‍ली (dailyhindinews.com)। दिवाली के त्योहार पर पूरा देश जगमगाता है लेकिन भारत के सैकड़ों उल्लुओं के लिए यह जीवन में अंधेरा लाने वाला मुश्किल समय होता है। जी हां, यूपी समेत देश के कई राज्यों में लोग चोरी-छिपे उल्लुओं की बलि चढ़ा देते हैं।

ऐसा माना जाता है कि अगर लक्ष्मी पूजा के दौरान घर में उल्लू की बलि चढ़ाई जाती है तो देवी हमेशा के लिए परिवार के साथ रहती हैं। लक्ष्मी मां का वाहन उल्लू है। वन्यजीव एक्टिविस्टों का कहना है कि आगरा जैसे कुछ शहरों में उल्लू की होम डिलिवरी भी की जाती है। इनकी कीमत 30 से 50 हजार रुपये तक पहुंच जाती है।

धार्मिक मिथक और अंधविश्वास के चलते इन पक्षियों के शरीर के अंगों जैसे हड्डी, पंख, मीट और खून की भी मांग होती है जिससे काला जादू और दवाएं बनाने की बात की जाती है। हालांकि ज्यादातर लोग लक्ष्मी देवी के वाहन उल्लू का आशीर्वाद पाने की कामना करते हैं। लेकिन तांत्रिक, काला जादू और अंधविश्वास के चक्कर में बड़ी संख्या में उल्लुओं की बलि दी जाती है।

उत्तराखंड में उल्लुओं की दो दर्जन से ज्यादा प्रजातियां पाई जाती हैं। हर साल यहां वन विभाग की ओर से अलर्ट जारी किया जाता है जिससे निगरानी बढ़ाई जा सके। फील्ड स्टाफ की छुट्टियां कैंसल कर दी जाती हैं। उन्हें जंगलों में पट्रोलिंग बढ़ाने को कहा जाता है।

आमतौर पर मांसाहारी लोग भी उल्लू का मांस खाने के बारे में नहीं सोचते लेकिन अंधविश्वास के चक्कर में उल्लुओं की बलि की प्रथा चल निकली है। बताते हैं कि जयपुर, मेरठ से 300-400 रुपये के उल्लू खरीदकर लाने वाले लोग दिल्ली में 30 से 50 हजार ऐंठने की कोशिश करते हैं।

मान्यता एक ही है कि लक्ष्मी पूजा की रात उल्लू की बलि देने से अगले साल सुख-संपदा बनी रहेगी। जयपुर, अलवर और मथुरा के पास कोसी कलां इसके लिए कुख्यात है। बहेलिये दिवाली से पहले ही इस काम में जुट जाते हैं। उल्लू के शरीर के हर हिस्से की कीमत तय की जाती है।

उल्लू ही नहीं कछुए को लेकर भी तंत्र साधना की जाती है। धनतेरस से दिवाली तक कुछए के नाखूनों, पैर, गर्दन और दांत के साथ तंत्र साधनाएं की जाती हैं। तांत्रिक दावा करते हैं कि कुछए के इन अंगों को धन वाली जगहों पर रखने से समृद्धि आती है। इन सब अंधविश्वास के चक्कर में रहस्यमय पक्षी माने जाने वाले उल्लू और कछुए की जान पर बन आती है।

बताते हैं कि उल्लू की बलि देने वाले तांत्रिक उसे पहले शराब पिलाते हैं। दिवाली से करीब दो महीने पहले ही चुपके से लोग उल्लू खरीदना शुरू कर देते हैं। यूपी और उत्तराखंड के जंगलों के आसपास अलर्ट जारी किया गया है। उम्मीद की जानी चाहिए कि लोग इस अंधविश्वास से उबर कर उल्लू को अपनी उड़ान उड़ने देंगे।

विनम्र अनुरोध : कृपया वेबसाइट के संचालन में आर्थिक सहयोग करें

For latest sagar news right from Sagar (MP) log on to Daily Hindi News डेली हिंदी न्‍यूज़ के लिए डेली हिंदी न्‍यूज़ नेटवर्क Copyright © Daily Hindi News 2021